HomeUncategorizedजाने बरसात के मौसम में होने वाली 5 प्रमुख बीमारियां और ...

जाने बरसात के मौसम में होने वाली 5 प्रमुख बीमारियां और उनके उपाय

Published on

बारिश किसको पसंद नहीं, शायद ही कोई होगा जिसे बारिश पसंद नही होती होगी लेकिन बारिश के कारण बहुत सी परेशानियां भी होती है । जैसे की बीमारियां ,तो आज आपको हमारे इस लेख में बरसात से होने वाली प्रमुख बिमारियों और उनसे बचने के उपाए भी आपको इस लेख में मिलेंगे ।

बरसात का मौसम बीमारियां फैलने के लिए सबसे माकूल मौसम होता है, क्योंकि इस मौसम में नमी और पानी के कारण संक्रमण फैलने के लिए सबसे ज्यादा संभावना होती है।  जानिए इस मौसम की प्रमुख बीमारियां औी उनसे बचने के उपाय

जाने बरसात के मौसम में होने वाली 5 प्रमुख बीमारियां और उनके उपाय

मलेरिया – मलेरिया बरसात में होने वाली आम लेकिन गंभीर बीमारी है, जो जलजमाव से पैदा होने वाले मच्छरों के काटने से होती है। यह रोग मादा ऐनाफिलिज मच्छर के काटने से फैलता है। इससे बचने के लिए अपने आसपास पानी का जमाव न होने दें। जैसे की कूलर में जमा पानी, पशुओं के लिए रखा पानी इत्यादि जगहों को साफ रखें ।

बरसात के मौसम में डायरिया भी सबसे आम समस्या कही जाती है, जो जीवाणुओं के संक्रमण के कारण होता है। इस बीमारी के कारण पेट में मरोड़ होने के साथ ही पेट दर्द होना प्रमुख हैं। यह खास तौर पर बरसात में प्रदूषित पानी और खाद्य पदार्थों के सेवन के कारण होता है, अत: खाद्य पदार्थों को खुला न रखकर ढक कर रखे, पानी उबालकर व छानकर पिएं और हाथ धोने के बाद ही कुछ खाए ।

डेंगू बुखार भी मच्छरों के काटने से ही फैलता है, लेकिन बता दें की डेंगू फैलाने वाले मच्छर साफ पानी में पनपते हैं, इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए। एडिज मच्छर के काटने से फैलने वाले इस रोग का प्रभाव मरीज के पूरे शरीर और जोड़ों में तेज दर्द के रूप में सामने आता है। इससे बचने के लिए मच्छरों से बचें और घर से निकलने से पहले शरीर को पूरी तरह ढंककर रखें।

जाने बरसात के मौसम में होने वाली 5 प्रमुख बीमारियां और उनके उपाय

हैजा, जेड – विब्रियो कोलेरा नामक जीवाणु के कारण फैलने वाला यह रोग दूषित भोजन व पेय पदार्थों के कारण होता है। पेट में ऐंठन के साथ लगातार होने वाले उल्टी-दस्त इस रोग के प्रमुख लक्षण हैं जिसके कारण शरीर में पानी की कमी होना लाज़मी है और मिनरल्स की कमी हो जाती है और मरीज भी बेहद कमजोर हो जाता है। इससे बचने के लिए खाने-पीन संबंधी साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें।

चिकनगुनिया – चिकनगुनिया भी मच्छरों से फैलने वाला बुखार है, जिसका संक्रमण मरीज के शरीर के जोड़ों पर भी होता है और जोड़ों में तेज दर्द होता है। इससे बचने के लिए जलजमाव से बचें, ताकि उसमें पनपने वाले मच्छर बीमारी न फैलाएं।

Latest articles

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

More like this

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...