Homeदेश में अपनों ने ठुकराया तो अमेरिका और इटली ने गले लगाया,...

देश में अपनों ने ठुकराया तो अमेरिका और इटली ने गले लगाया, कानपुर के बच्चों को ऐसे मिली विदेशी गोद

Array

Published on

आपकी किस्मत को जहां ले जाना होता है वह ले जाती है। आप जितना भी प्रयास कर लें किस्मत को हरा नहीं सकते। आज जहां विदेश की धरती पर पैर रखने के लिए सपने देखे जाते हैं, वहां इन बच्चों को उनकी किस्तम ने खुद-ब-खुद भेजने की रूपरेखा बना दी है। भारत में अब जब अपनों ने ठुकरा दिया तो इन बच्चों को अमेरिका, इटली और स्पेन ने गले लगाया है। दरअसल, भारतीय बच्चों को गोद लेने के लिए विदेशी बड़े ही ख्वाहिशमंद रहते हैैं।

गोद लिए बच्चे अपने सगे बच्चों से प्यारे माने जाते रहे हैं। इन्हे अच्छी परवरिश भी दी जाती है। देश में भले ही अनाथ बच्चों को दंपती नहीं अपनाते हैैं लेकिन विदेशियों की गोद और उनका प्यार खूब मिलता है।

देश में अपनों ने ठुकराया तो अमेरिका और इटली ने गले लगाया, कानपुर के बच्चों को ऐसे मिली विदेशी गोद

अच्छी ज़िंदगी बच्चों को देखर अभिभावक इस दुनिया का सबसे सुंदर काम करते हैं। यह काम काफी प्रेरणा देता है। किस्मत अपना रास्ता खुद ही तलाश लेती है, इन बच्चों के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है। भारत सरकार की एजेंसी कारा बच्चों को गोद देने का कार्य करती है। इसमें भारतीय आनलाइन आवेदन करते हैं। दत्तक प्रक्रिया का नियम है कि जिन बच्चों को 16 बार रिजेक्ट कर दिया जाता है, उन्हें फिर विदेशी नागरिकों को गोद देने की प्रक्रिया में शामिल किया जाता है।

देश में अपनों ने ठुकराया तो अमेरिका और इटली ने गले लगाया, कानपुर के बच्चों को ऐसे मिली विदेशी गोद

किशोरावस्था में बच्चों को माता-पिता के मार्गदर्शन की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। लेकिन अनाथों का क्या कहें? ईश्वर उनपर कहर बरपाता है। कानपुर में ऐसे 17 बच्चे हैं, जिन्हें अलग-अलग अभिभावकों ने देखने के बाद गोद लेने से मना कर दिया। भारतीय के ठुकराने के बाद इन बच्चों को विदेशी गोद में जाने का अवसर मिला।

अनाथ आश्रम के बाहर नवजात बच्चे को छोड़ गई कलयुगी मां - YouTube

अनाथ बच्चों के लिए सरकार भी तत्परता से काम कर रही है। उन्हें गोद लेने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। कारा के नियम के मुताबिक एक बच्चे को सप्ताह में मंगलवार और शुक्रवार को गोद लेने वाले दंपती के सामने फोटो के जरिये आनलाइन प्रस्तुत किया जाता है। कोई बच्चा जब लगातार 16 बार रिजेक्ट कर दिया जाता है तो फिर उसे भारतीय दत्तक ग्रहण के विकल्प से निकालकर विदेशी दत्तक ग्रहण के लिए पंजीकृत कर दिया जाता है। इसके बाद ऐसे बच्चों को विदेशी आनलाइन देख पाते हैं और उनका चयन कर गोद लेते हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...