HomeLife StyleHealthराजधानी दिल्ली में बाहर से आए लोग भी अब करा सकेंगे अस्पतालोइलाज,...

राजधानी दिल्ली में बाहर से आए लोग भी अब करा सकेंगे अस्पतालोइलाज, जानिए अस्पतालों की सूचि

Published on

कोरोना संकट काल के बीच दिल्ली की सरकार ने फैसला लिया है कि राजधानी में अब सिर्फ दिल्ली वालों का ही इलाज किया जाएगा | दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और इस बीच ये फैसला अरविंद केजरीवाल सरकार को लगातार सवालों के घेरे में खड़ा कर रहा है. हालांकि, ये फैसला सिर्फ दिल्ली सरकार के अंतर्गत आने वाले सरकारी अस्पताल और प्राइवेट अस्पतालों पर लागू होगा ।

राजधानी दिल्ली में बाहर से आए लोग भी अब करा सकेंगे अस्पतालोइलाज, जानिए अस्पतालों की सूचि

यानी दिल्ली में जो भी सरकारी अस्पताल केंद्र सरकार के अंतर्गत काम करते हैं, वहां पर अभी भी देश के किसी भी हिस्से का व्यक्ति आकर इलाज करवा सकता है | दिल्ली सरकार ने अब बॉर्डर खोल दिए हैं, ऐसे में किसी को आने में परेशानी भी नहीं होगी |
केंद्र के अस्पतालों में किसी भी राज्य के लोग आ सकते हैं दिल्ला का ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS), राम मनोहर लोहिया अस्पताल (RML), सफदरजंग अस्पताल, लेडी हार्डिंग अस्पताल समेत कुछ अन्य अस्पताल केंद्र सरकार के अंतर्गत आते हैं यानी इन सभी अस्पतालों में अभी भी देश के किसी भी राज्य का व्यक्ति कोरोना वायरस या दूसरी बीमारी के इलाज के लिए आ सकता है .

राजधानी दिल्ली में बाहर से आए लोग भी अब करा सकेंगे अस्पतालोइलाज, जानिए अस्पतालों की सूचि

दिल्ली वालो को दिल्ली के अस्पताल में अपना इलाज करवाने के लिए कुछ दस्तावेजों की जरूरत भी पड़ेगी | यहाँ इलाज करवाने के लिए कुछ प्रमाण पत्र दिखने होंगे, जिसमें शामिल है बैंक/किसान/पोस्ट ऑफिस का कर्रेंट पासबुक, राशन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, ड्राईविंग लाइसेंस या फिर टैक्स रिटर्न के कागजात शामिल है | जिसे दिखा कर आप दिल्ली के अस्पतालों में इलाज करवा सकते है |
कोरोना महामारी संकट के इस दौर में दिल्ली के सभी प्राइवेट और दिल्ली के सरकार अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वालों का इलाज होगा | इसके आलावा बाहर के लोगों के लिए इन अस्पतालों में ट्रांसप्लांटेंशन, ओनकोलॉजी, न्यूरोसर्जरी जैसे ट्रीटमेंट की सुविधा जारी रहेगी |

राजधानी दिल्ली में बाहर से आए लोग भी अब करा सकेंगे अस्पतालोइलाज, जानिए अस्पतालों की सूचि

इसी के बीच दिल्ली सरकार ने एक हफ्ते के लिए बॉर्डर बंद करने का फैसला किया था, साथ ही लोगों से पूछा था कि क्या दिल्ली में सिर्फ दिल्ली वालों का इलाज होना चाहिए |
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को ऐलान किया कि नब्बे फीसदी लोगों ने ऐसी मांग की है, इसीलिए इस फैसले को लिया गया है. बता दें कि दिल्ली सरकार को एक कमेटी ने रिपोर्ट भी सौंपी थी, जिसमें कहा गया था कि अगर दिल्ली के अस्पताल सभी के लिए खुलते हैं तो कुछ ही दिनों में सारे बेड फुल हो जाएंगे और स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा जाएगी |

Written by- Prashant K Sonni

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...