Homeकभी साइकिल के छोटे-छोटे पार्ट बनाने से शुरू किया था काम, आज...

कभी साइकिल के छोटे-छोटे पार्ट बनाने से शुरू किया था काम, आज कड़ी मेहनत से खड़ी कर दी अरबों की कंपनी

Published on

जब आप कुछ नया शुरू करने जाते हैं तो उस समय हमें पता नहीं होता है कि यह काम हमारा कहां तक जाएगा और इसका सफर कैसा रहेगा। जब भी बात साइकिल की होती है तो आज भी लोगों के दिमाग में सबसे पहले हीरो साइकिल का नाम आता है। कुछ लोगों की पहचान उनके काम से होती है तो कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनके नाम से उनके काम को पहचाना जाना है।

आपकी पहली साइकिल या मोटरसाइकिल हो सकता है इसी कंपनी की हो। इस कंपनी ने कई परिवारों में खुशियां पहुंचाई हैं। धार्मिक कार्यों में अग्रिण रहने वाले सत्यानंद मुंजाल ने हीरो ग्रुप की स्थापना की थी।

कभी साइकिल के छोटे-छोटे पार्ट बनाने से शुरू किया था काम, आज कड़ी मेहनत से खड़ी कर दी अरबों की कंपनी

उनकी पहचान बहुत ही सजग और महात्मा व्यक्ति के तौर पर आज भी की जाती है। इंसानों के कर्म ही याद किये जाते हैं। उन्होंने भारत की आजादी और भारत-पाकिस्तान के बंटवारे के बाद 1947 में अपने बिजनेस की शुरुआत की थी। सत्यानंद मुंजाल के कार्यों को देखते हुए दिल्ली में संतों ने उनको महात्मा की उपाधि दी थी, तभी से ही महात्मा के तौर पर उनकी पहचान बन गई। सत्यानंद मुंजाल आज भले ही इस दुनिया में नहीं है लेकिन उनके द्वारा स्थापित की गई हीरो कंपनी के लिए आज भी कई लोगों का दिल धड़कता है।

कभी साइकिल के छोटे-छोटे पार्ट बनाने से शुरू किया था काम, आज कड़ी मेहनत से खड़ी कर दी अरबों की कंपनी

कई परिवारों में आज रोज़ी – रोटी का जरिया है इनकी कंपनी। लगातार नए रिकॉर्ड भी हीरो कपंनी बना रही है। सत्यानंद मुंजाल का जन्म पाकिस्तान के जिला लायलपुर कमालिया में 1923 में हुआ था। वह सन 1940 में मुंजाल अमृतसर आ गए। यहां आकर उन्होंने साइकिल के पार्ट बेचने का काम शुरू किया। सन 1947 में भारत की आजादी के बाद मुंजाल परिवार लुधियाना आ गया था। जिसके बाद मुंजाल ब्रदर्स के नाम से उन्होंने काम करना शुरू किया।

कभी साइकिल के छोटे-छोटे पार्ट बनाने से शुरू किया था काम, आज कड़ी मेहनत से खड़ी कर दी अरबों की कंपनी

कड़ी मेहनत और एकाग्रता ने आज इस कंपनी को अलग ही पहचान दी है। देश ही नहीं विदेश में भी इस कंपनी को जाना जाता है। सत्यानंद मुंजाल हीरो साइकिल कंपनी के सह अध्यक्ष होने के साथ प्रबंध निदेशक भी थे। मुंजाल भाइयों ने लुधियाना में साइकिल के पार्ट्स बनाने का छोटा सा बिज़नेस शुरू किया था। जिसके बाद आज यह ग्रुप देश का बड़ा और जाना-माना हीरो ग्रुप बन गया है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...