HomePress Releaseडीसीपीसीआर को मिली शिकायतों में से 85 फीसदी को 24 घंटों और...

डीसीपीसीआर को मिली शिकायतों में से 85 फीसदी को 24 घंटों और 15 फीसदी को 72 घंटों के भीतर दूर कर दिया गया

Published on

दिल्ली बाल अधिकार संरक्षण आयोग (डीसीपीसीआर) ने अप्रैल में 24 घंटे हेल्पलाइन 9311551393 शुरू की थी। जिसके जरिए किसी भी मामले की रिपोर्ट करने और बाल अधिकारों को लेकर कोई भी जानकारी ले सकता है।

डीसीपीसीआर की ओर से हेल्पलाइन अप्रैल में शुरू की गई थी। अब इसको तीन महीने पूरे हो गए हैं। इस दौरान 4,500 से अधिक शिकायतें दर्ज की गई हैं। इनमें से 2,200 एसओएस श्रेणी की शिकायतें मिलीं, जिन पर तत्काल आधार पर ध्यान देने की आवश्यकता थी। इन एसओएस शिकायतों में राशन, चिकित्सा आपात स्थिति, परित्यक्त बच्चों के मामले, महामारी परीक्षण संबंधी शिकायतें थीं।

डीसीपीसीआर को मिली शिकायतों में से 85 फीसदी को 24 घंटों और 15 फीसदी को 72 घंटों के भीतर दूर कर दिया गया

इन एसओएस शिकायतों को आयोग की टीम ने तुरंत दूर किया था और सुनिश्चित किया था कि सभी शिकायतों को 24 घंटे के भीतर दूर कर दिया जाए। इन एसओएस शिकायतों में से 85 फीसदी को 24 घंटों के भीतर और 15 फीसदी को 72 घंटों के भीतर दूर कर दिया गया।

इसके अलावा, आयोग ने स्वास्थ्य विभाग क आंकड़ों का उपयोग करते हुए हेल्पलाइन की मदद से उन बच्चों की पहचान की जिन्होंने महामारी के कारण अपने माता-पिता को खो दिया है। आयोग ने अभी 2029 बच्चों का पता लगाया है, जिन्होंने महामारी की वजह से माता-पिता को खो दिया है। इनमें से 67 बच्चों ने अपने माता-पिता दोनों को, जबकि 651 बच्चों ने अपनी मां और 1311 बच्चों ने अपने पिता को खो दिया है।

डीसीपीसीआर को मिली शिकायतों में से 85 फीसदी को 24 घंटों और 15 फीसदी को 72 घंटों के भीतर दूर कर दिया गया

इन बच्चों की जानकारी महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ साझा की गई, ताकि उनकी ओर से आवश्यक कार्रवाई की जा सके। इसके अलावा दिल्ली सरकार की योजना में इन बच्चों का नामांकन सुनिश्चित किया जा सके।

डीसीपीसीआर को मिली शिकायतों में से 85 फीसदी को 24 घंटों और 15 फीसदी को 72 घंटों के भीतर दूर कर दिया गया

डीसीपीसीआर के अध्यक्ष अनुराग कुंडू ने कहा कि पिछले तीन महीनों में डीसीपीसीआर हेल्पलाइन ने अधिक से अधिक बच्चों और परिवारों तक पहुंचने में काफी सहायता की है। हेल्पलाइन के जरिए आयोग को अधिक सुलभ बनाकर, बच्चों और उनके परिवारों के करीब लाया है।

डीसीपीसीआर को मिली शिकायतों में से 85 फीसदी को 24 घंटों और 15 फीसदी को 72 घंटों के भीतर दूर कर दिया गया

उन्होंने कहा कि यह केवल एक शुरुआत है। हेल्पलाइन को उपयोगी और विश्वसनीय माध्यम के रूप में मजबूती से स्थापित करने के लिए एक लंबा रास्ता तय करना है। आयोग को इस वित्त वर्ष में लगभग 20 हजार शिकायतें प्राप्त होंगी। यह पिछले 3 वर्षों के औसत के मुकाबले 1300 फीसदी अधिक है और पिछले 12 वर्षों में आयोग को प्राप्त शिकायतों का 2.5 गुना है। इससे पता चलता है कि कैसे डीसीपीसीआर आम नागरिकों के लिए आसानी से उपलब्ध और भरोसेमंद हो गया है।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...