HomeUncategorizedजानिए कौन थी भारत की पहली महिला जिन्होंने महामारी पर रिसर्च करने...

जानिए कौन थी भारत की पहली महिला जिन्होंने महामारी पर रिसर्च करने के लिए दे दिया था अपना शरीर

Published on

कोलकाता की 93 साल की ट्रेड यूनियन लीडर ज्योत्सना बोस देश की पहली ऐसी महिला बन गई हैं जिनका शरीर मेडिकल रिसर्च के लिए दान किया गया है। इसके जरिए मानव शरीर पर कोरोना वायरस के प्रभाव का पता लगाया जाएगा। बंगाल के एक एनजीओ गणदर्पण ने इसकी जानकारी दी। एनजीओ ‘गणदर्पण’ ने यह भी बताया कि इस तरह के अनुसंधान के लिए शरीर दान करने वाली बोस पश्चिम बंगाल में दूसरी शख्सियत हैं।

बोस से पहले संगठन के संस्थापक ब्रोजो रॉय भी अपना शरीर रिसर्च के लिए दान कर चुके हैं। संगठन ने बताया कि कोविड-19 से मौत के बाद उनके शव का एक सरकारी अस्पताल में पैथोलॉजिकल पोस्टमॉर्टम किया गया।

जानिए कौन थी भारत की पहली महिला जिन्होंने महामारी पर रिसर्च करने के लिए दे दिया था अपना शरीर

ज्योत्सना के बाद कोविड-10 बीमारी से पीड़ित एक अन्य शख्स और नेत्ररोग विशेषज्ञ डॉ. विश्वजीत चक्रवर्ती का शव भी अनुसंधान के लिए दान किया गया है और ऐसा करने वाले वह प्रदेश के तीसरे व्यक्ति हुए।

ज्योत्सना बोस की पोती डॉ. तिस्ता बसु ने बताया कि उन्होंने बताया कि उनकी दादी ने 10 साल पहले संस्था को अपना शरीर दान करने की प्रतिज्ञा ली थी। बतादें कि 92 वर्षीय ज्योत्सना बोस ट्रेड यूनियन नेता थी।

जानिए कौन थी भारत की पहली महिला जिन्होंने महामारी पर रिसर्च करने के लिए दे दिया था अपना शरीर

जिनका जन्म 1927 में चिटगांव में हुआ था, जो अब बांग्लादेश का हिस्सा है। ज्योत्सना बोस की पोती डॉ तिस्ता बसु ने बताया कि 14 मई को उत्तरी कोलकाता के बेलियाघाटा इलाके के एक अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था।

जानिए कौन थी भारत की पहली महिला जिन्होंने महामारी पर रिसर्च करने के लिए दे दिया था अपना शरीर

जहां 2 दिन कोविड वॉर्ड में उनका इलाज चला, लेकिन वह जिंदगी की जंग हार गई। लेकिन हम सब कह सकते हैं कि जिंदगी की जंग हारने के बावजूद भी वो जीत गईं। मानवजाति को वो एक बहुत सुंदर तोहफा देकर गईं हैं।

जानिए कौन थी भारत की पहली महिला जिन्होंने महामारी पर रिसर्च करने के लिए दे दिया था अपना शरीर

ऐसे बहुत ही कम लोग होते हैं जो अपनी पूरी ज़िम्मेदारी लेते हुए ऐसे बड़े कदम उठाते हैं। उससे भी बड़ी बात ये है कि ऐसे लोगों के परिवारजन लगातार अपनी ज़िम्मेदारी को निभाते हुए आगे बढ़ते हैं और मिसाल बन जाते हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...