HomeFaridabadजूता चुराई के 11 हजार ना देने पर दुल्हन ने लौटाई बारात

जूता चुराई के 11 हजार ना देने पर दुल्हन ने लौटाई बारात

Published on

शादियों टूटने की आपने एक से बढ़कर एक वजह जरूर सुनी होगी लेकिन आज हम आपको एक ऐसी वजह बताने जा रहे हैं जिसको सुनने के बाद शायद आप भी भविष्य में होने वाली शादी में यह गलती ना करें। दो परिवारों को जोड़ने का मतलब शादी ही होता है और यदि छोटी-छोटी बातों पर यह बड़े रिश्ते टूटने लगे तो समाज के लिए यह एक गलत संकेत है।

थाना क्षेत्र के एक गांव में रविवार को शादी में जूता चुराई के 11 हजार रुपये न देने पर लड़की और लड़का पक्ष में विवाद हो गया। नौबत हाथापाई तक पहुंच गई, सूचना मिलने पर पुलिस दोनों पक्षों को थाने ले आई। कई घंटे पंचायत के बावजूद बात नहीं बनी तो लेनदेन लौटाकर समझौता हो गया और बरात बिना दुल्हन के ही लौट गई।

जूता चुराई के 11 हजार ना देने पर दुल्हन ने लौटाई बारात

गांव निवासी एक ग्रामीण ने बेटी की शादी मध्य प्रदेश के भिंड जिले के फूफ के युवक के साथ तय की थी और युवक 22 नवंबर को बरात लाया था। जनवासे पर बरात के स्वागत के बाद जयमाल का रस्म पूरी की गई। भांवरों के बाद जूता चुराई की रस्म हुई। सालियों ने जूता चुराने के एवज में 11 हजार रुपये मांगे।

दूल्हे ने इतने रुपये देने से मना कर दिया और इससे लड़की पक्ष के लोग खफा हो गए और आरोप लगाने शुरू कर दिए। पहले आरोप लगाया कि जिस लड़के को दिखाया गया उससे शादी नहीं की जा रही है। फिर कहा कि लड़के पक्ष के सभी लोग शराब के नशे में डूबे हुए हैं। रसिया मन से खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा गिरते पड़ते जैसे तैसे बरात दरवाजे तक ले कर के आए हैं।

इसके बाद बड़ा आरोप लगाते हुए दहेज मांगने का आरोप लगाया गया। हाथापाई की नौबत बनती देख लड़की पक्ष के लोगों ने हेल्पलाइन नंबर 112 पर फोन कर दिया। इस पर पुलिस मौके पर पहुंची। दोनों पक्ष के लोग सैफई थाने लाए गए।

जूता चुराई के 11 हजार ना देने पर दुल्हन ने लौटाई बारात

यहां शाम तक पंचायत चली लेकिन बात नहीं बनी। यहां भी लड़की पक्ष के लोगों ने 2 लाख नगद तिलक के समय देने की बात कही। आरोप लगाया कि विदाई के समय और दहेज मांग रहे थे। पंचायत में कोई हल नहीं निकला, लड़की भी ससुराल जाने को तैयार नहीं थी।

थानाध्यक्ष सैफई चंद्रदेव यादव ने बताया कि जूता चुराई के रुपयों को लेकर विवाद शुरू हुआ था। रिश्तेदारों के समझाने के बावजूद लड़की ससुराल जाने को तैयार नहीं थी, वह आशंका जता रही थी कि वहां मारपीट की जाएगी। इससे दोनों पक्षों ने लेनदेन की वापसी कर समझौता कर लिया। बरात बिना दुल्हन के ही लौटी है।

जूता चुराई के 11 हजार ना देने पर दुल्हन ने लौटाई बारात

भारतीय संस्कृति के अनुसार जूता चुराई की रसम की जाती है लेकिन इस रेशम के चक्कर में बसने वाला परिवार नष्ट हो गया और यही नहीं आपसी मतभेद के कारण बहुत सारी परेशानियों का सामना भी करना पड़ा यदि ऐसी छोटी-छोटी बातों पर यदि रिश्ते टूटने लगे तो ये समाज के लिए गलत संकेत है ।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...