HomeFaridabadशहर की अमूल्य धरोहर प्राचीन स्मारक हो रहे हैं गायब, पुरातत्व विभाग...

शहर की अमूल्य धरोहर प्राचीन स्मारक हो रहे हैं गायब, पुरातत्व विभाग भी कर रहे हैं इतिश्री

Published on

प्राचीन इमारतें तथा स्मारक किसी भी शहर की अमूल्य धरोहर होती है परंतु समय के साथ साथ पुरानी विरासत गायब होती जाती है ऐसा ही कुछ कुरुक्षेत्र के शाहाबाद तथा फरीदाबाद में देखने को मिल रहा है।

दूरी और दिशा का ज्ञान रखने के लिए बनाए गए पहचान कोस मीनार धीरे धीरे गायब हो रहे हैं वहीं इस मामले में पुरातत्व विभाग भी पीछे हटता नजर आ रहा है। पुरातत्व विभाग ने कोस मीनार की सूचना न होने के बाद कह कर इतिश्री कर रहा है।

शहर की अमूल्य धरोहर प्राचीन स्मारक हो रहे हैं गायब, पुरातत्व विभाग भी कर रहे हैं इतिश्री

दरअसल, शेरशाह सूरी के शासन काल में दूरी और दिशा के लिए कोस की मीनार बनाई गई थी परंतु अब यह मीनारें गायब हो गए हैं। शाहाबाद और फरीदाबाद में कोस की मीनार का पता नहीं लग रहा।

आपको बता दे कि कोस मीनार नंबर-13 फरीदाबाद के बल्लभगढ़ तहसील के मुजेसर क्षेत्र में थी। पुरातत्व विभाग के 11 मार्च 1919 के सर्वे में कोस मीनार को दिखाया गया था।

शहर की अमूल्य धरोहर प्राचीन स्मारक हो रहे हैं गायब, पुरातत्व विभाग भी कर रहे हैं इतिश्री

इस जमीन को बाद में एक कंपनी को दे दिया गया। विभाग की रिपोर्ट है कि कंपनी मालिक ने इसको तोड़ दिया गया। चार फरवरी 1984 को इसको लेकर कानून कार्रवाई करने की भी बात उठी।


जानकारी के अनुसार शेरशाह सूरी ने वर्ष 1540-45 तक शासन किया था। उसने ग्रांड ट्रंक रोड के किनारे कोस मीनार और सराय बनवाई थी। हर दो कोस (यानी 4.3 किलोमीटर) की दूरी पर कोस मीनार का निर्माण कराया था।

शहर की अमूल्य धरोहर प्राचीन स्मारक हो रहे हैं गायब, पुरातत्व विभाग भी कर रहे हैं इतिश्री

कोस मीनार में 21 गुना 21 फुट का प्लेटफार्म, इसके ऊपर 10 फीट का अष्ट भूजाकार व उसके ऊपर 14 फीट गोलाकार होता है। यह लाखौरी ईंटों और चूने से बनाया गया है। इसके बाद अकबर और जहांगीर ने इसको मजबूत बनाया।

इन्हीं मीनारों को देखकर सैनिक काफिले व राहगीर यात्र करते थे। पुराने समय में डाक भी इन्हीं मीनारों की तर्ज पर चलती थी। जहांगीर ने कोस मीनारों को पक्की ईंटों और पत्थरों से बनवाया था। कोस मीनारों को समय के साथ भूलते चले गए। कुछ मीनारों का अस्तित्व ही मिट चुका है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...