HomeLife StyleEntertainmentनीना गुप्ता ने सुनाई अपनी बेटी मसाबा के जन्म की कहानी, कहा-डिलीवरी...

नीना गुप्ता ने सुनाई अपनी बेटी मसाबा के जन्म की कहानी, कहा-डिलीवरी करवाने के लिए भी नहीं थे पैसे

Published on

बॉलीवुड में ऐसे बहुत से कलाकार हैं, जिन्होंने अपने जीवन की शुरुआत में बहुत ग़रीबी देखी, फिर ख़ूब संघर्ष किया और आज, सबकुछ उनके पास है। ऐसी ही एक कहानी हम आज आपको बताने जा रहे हैं।

बतादें एक्ट्रेस नीना गुप्ता की बेटी और मशहूर फैशन डिजाइनर मसाबा गुप्ता ने इंस्टाग्राम पर अपनी मां की आगामी आत्मकथा ‘सच कहूं तो’ का एक अंश साझा किया है।

नीना गुप्ता ने सुनाई अपनी बेटी मसाबा के जन्म की कहानी, कहा-डिलीवरी करवाने के लिए भी नहीं थे पैसे

अंश में उस समय का जिक्र किया गया है जब नीना मसाबा को जन्म देने वाली थीं और वह आर्थिक तंगी से गुजर रही थीं। किताब के पैराग्राफ में लिखा है कि नीना के बैंक खाते में सिर्फ 2000 रुपये थे और डॉक्टरों ने उन्हें सी-सेक्शन की सलाह दी थी।

हालांकि, बाद में, एक टैक्स प्रतिपूर्ति ने ‘बधाई हो’ एक्ट्रेस की डिलीवरी में मदद की जब उन्हें बिल भरने के लिए पैसे मिल गए। मसाबा ने पोस्ट को कैप्शन देते हुए उन ‘कठिनाइयों और संघर्षों’ के बारे में बताया, जिनका सामना उनकी मां ने अपने शुरुआती दिनों में किया था।

नीना गुप्ता ने सुनाई अपनी बेटी मसाबा के जन्म की कहानी, कहा-डिलीवरी करवाने के लिए भी नहीं थे पैसे

इसके अलावा, मसाबा एक्ट्रेस ने लिखा कि, मैं अपने जीवन के हर एक दिन बहुत मेहनत करती हूं और कभी भी किसी को मुझे वह नहीं देने की इजाजत नहीं देती जिसके मैं योग्य हूं, केवल यह सुनिश्चित करने के लिए कि मुझे इस दुनिया में लाने के लिए मैं उन्हें वापस भुगतान कर सकूं, ब्याज के साथ।

इस बीच, एक्ट्रेस के कई फैंस ने नीना को उनके कठिन दौर में भी मजबूत और बोल्ड बने रहने के लिए बधाई दी है और पोस्ट पर कमेंट किया है। साथ ही, उन्होंने अपनी बहुमुखी प्रतिभा से इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिए भी नीना की तारीफ की है।

नीना गुप्ता ने सुनाई अपनी बेटी मसाबा के जन्म की कहानी, कहा-डिलीवरी करवाने के लिए भी नहीं थे पैसे

कहते हैं ना कि एक औरत सब कुछ हो सकती है, वो एक अच्छी बेटी हो सकती है, वो एक अच्छी दोस्त हो सकती है, वो एक अच्छी बहन हो सकती है, वो एक अच्छी पत्नी हो सकती है, और वो एक अच्छी माँ तो हमेशा होती ही है, इसमें कोई शक नहीं है।

तो इस तरह की जीवन की कठिनाइयां रही हैं नीना गुप्ता की, लेकिन बाद में उनके संघर्ष और उसके बाद कि मेहनत ने उन्हें आज यहां तक लाकर रख दिया कि अब वो कुछ भी हासिल कर सकती हैं।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...