HomeFaridabadस्मार्ट सिटी में नहीं है जल निकासी की सुविधा, नगर निगम और...

स्मार्ट सिटी में नहीं है जल निकासी की सुविधा, नगर निगम और हुडा ने नहीं किया है अब तक यह काम

Published on

कलपुर्जों की नगरी फरीदाबाद में पानी निकासी के लिए प्रशासन के पास कोई योजना नहीं है। बारिश के कारण शहर में जगह-जगह जलभराव देखने को मिलता है क्योंकि बारिश के पानी के मद्देनजर शहर के ड्रेनेज सिस्टम को डिजाइन ही नहीं किया गया है।

फिलहाल स्थिति यह है कि नगर निगम और हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की इंजीनियरिंग शाखा के अधिकारियों को पता ही नहीं है कि ड्रेनेज लाइन कहां है और क्यों रुकी हुई है? जब तक पूरे शहर के ड्रेनेज सिस्टम को पुनः नहीं सिरे से नहीं बिछाया जाएगा तब तक जलभराव के दिक्कत से शहर वासियों को दो-चार होना पड़ेगा।

स्मार्ट सिटी में नहीं है जल निकासी की सुविधा, नगर निगम और हुडा ने नहीं किया है अब तक यह काम

दूसरा जो नाले और सीवर लाइन या ट्रेन लाइन है उनकी सफाई नहीं की गई है। पैसे नहीं होने के कारण ठेकेदारों ने नाली की सफाई का काम ही नहीं लिया। नगर निगम ने अपने स्तर पर करीब 50 लाख रुपए खर्च करके कुछ नालों की आधी अधूरी सफाई करवाई है जबकि जल निकासी के लिए नगर निगम अपने वार्षिक बजट में करीब 79 करोड रुपए खर्च करने का प्रावधान करता है।

मंत्री की घोषणा पर नहीं हुआ काम
केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने वर्ष 2015 में शहर में ड्रेनेज सिस्टम को दुरुस्त करने के लिए नई परियोजना तैयार करने के दिशा निर्देश नगर निगम सदन की बैठक में दिए थे लेकिन पैसे के अभाव के कारण इस पर काम नहीं किया गया।

स्मार्ट सिटी में नहीं है जल निकासी की सुविधा, नगर निगम और हुडा ने नहीं किया है अब तक यह काम

कोई परियोजना नहीं बनाई गई हालांकि कुछ इलाकों में नई सीवर लाइन बिछाने की योजना तैयार की गई और उस पर काम भी किया जा रहा है लेकिन बरसाती पानी की निकासी के लिए कुछ भी नहीं किया गया है।


आपको बता दें कि शहर में 48 बड़े नाले हैं जिनमें से अधिकांश की समुचित सफाई नहीं हुई है। कई नाले गंदगी से अटे पड़े हैं तो कई नाले की सफाई आधी अधूरी की गई है। सफाई बारिश में और मुसीबत बन गई है।

Latest articles

हरियाणा के बसई गांव से पहली महिला आईएएस बनी ममता यादव

यूपीएससी क्लियर करना बहुत बड़ी उपलब्धि की श्रेणी में आता है और जब कोई...

हरियाणा के रोल मॉडल बने ये दादा पोती की जोड़ी टीचर दादाजी के सहयोग से 23 साल में ही बनी आईएएस

हमने हमेशा से सुना की एक आदमी के सफलता के पीछे हमेशा एक औरत...

अक्षिता गुप्ता आईएएस बनने से पहले डॉक्टर बनना चाहती थी फिर कुछ ऐसा हुआ की क्लियर कर लिया यूपीएससी

यूपीएससी परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है जिसने हर साल लाखों...

ग्रेटर फरीदाबाद में कछुये की रफ़्तार से हो रहा है कार्य, कई महीनों से बंद हैं आस-पास के रास्ते

फरीदाबाद में बाईपास रोड पर दिल्ली-मुंबई-वडोदरा-एक्सप्रेसवे के लिंक रोड पर बीपीटीपी एलिवेटेड पुल का...

More like this

हरियाणा के बसई गांव से पहली महिला आईएएस बनी ममता यादव

यूपीएससी क्लियर करना बहुत बड़ी उपलब्धि की श्रेणी में आता है और जब कोई...

हरियाणा के रोल मॉडल बने ये दादा पोती की जोड़ी टीचर दादाजी के सहयोग से 23 साल में ही बनी आईएएस

हमने हमेशा से सुना की एक आदमी के सफलता के पीछे हमेशा एक औरत...

अक्षिता गुप्ता आईएएस बनने से पहले डॉक्टर बनना चाहती थी फिर कुछ ऐसा हुआ की क्लियर कर लिया यूपीएससी

यूपीएससी परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है जिसने हर साल लाखों...