Homeमहामारी में बुरा समय आने पर टीचर कर रहे थे कार में...

महामारी में बुरा समय आने पर टीचर कर रहे थे कार में गुजारा, पुराने शिष्य ने देखा तो ऐसे बदलकर रख दी जिंदगी

Array

Published on

महामारी सभी की ज़िंदगी में काफी बदलाव लेकर आयी है। महामारी ने सभी क्षेत्रों में अपना प्रभाव दिखाया है। हम सभी जानते हैं कि गुरु-शिष्य का रिश्ता अनमोल होता है। अमेरिका के कैलिफोर्निया में भी ऐसा ही अनमोल रिश्ते की कहानी सामने आई है। जहां शिक्षक जोस विलारूएल पैसों की तंगी की वजह से पिछले सात सालों से एक कार में अपनी जिन्दगी गुजार रहे थे। जब यह बात उनके पूर्व छात्रों को पता चली तो उन्होंने अपने 77 साल के बुजुर्ग शिक्षक को उनके जन्मदिवस पर एक अमूल्य तोहफा दिया। 

एक ऐसा उपहार जिसके बारे में शायद ही उस शिक्षक ने सोचा होगा। दरअसल, मैक्सिको में रह रहे परिवार काे मदद करने के लिए शिक्षक पिछले सात सालों से अपनी 24 साल पुरानी कार में रह रहे थे। उनकी यह हालत देखते हुए पूर्व छात्रों ने शिक्षक के 77वें जन्मदिन पर 20 लाख रुपये का चेक तोहफे के रूप में दिया। अपने छात्रों का यह प्यार देख जोस भावुक हो गए। उन्होंने कहा, ‘तुम्हारे इस तोहफे ने मेरी पूरी जिंदगी बदल दी। अब मैं अपना घर खरीद सकूंगा। अपने परिवार के साथ रह सकूंगा।

महामारी में बुरा समय आने पर टीचर कर रहे थे कार में गुजारा, पुराने शिष्य ने देखा तो ऐसे बदलकर रख दी जिंदगी

यह मामला अमेरिका ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बना हुआ है। आपको बता दें जोस कैलिफोर्निया के फोंटाना शहर के स्कूल में पढ़ाते हैं। उनके ही एक पूर्व छात्र स्टीवन ने बताते हैं कि उनके के पास 1977 की फोर्ड थंडरबर्ड एलएक्स कार है। इस छोटी सी कार में ही उन्होंने अपना पूरा घर बना लिया है। पिछले कई सालों से मैं उन्हें इसी कार में ही रहते हुए देख रहा था। उनकी यह हालत मुझसे देखी नहीं जा रही थी। इसलिए एक दिन मैंने उनकी मदद करने का फैसला किया और फंड रेजिंग अकाउंट बनाया। 

महामारी में बुरा समय आने पर टीचर कर रहे थे कार में गुजारा, पुराने शिष्य ने देखा तो ऐसे बदलकर रख दी जिंदगी

अपने गुरु के लिए इस शिष्य ने काफी मेहनत की और उन्हें ऐसा उपहार दिया जो सभी को भावुक कर रहा है। साल 2013 से ही जोस कार में अपनी जिंदगी बिता रहे हैं। लेकिन महामारी काल में स्कूल बंद हो जाने की वजह से उनकी मुश्किलें और बढ़ गई। कहीं भी काम मिलना मुश्किल हो गया। उनके पास इतने पैसे भी नहीं थे कि वे किराए का घर ले पाए। जितना भी कमाते थे वो सब मैक्सिको में रह रहे परिवार को भेज देते थे। 

महामारी में बुरा समय आने पर टीचर कर रहे थे कार में गुजारा, पुराने शिष्य ने देखा तो ऐसे बदलकर रख दी जिंदगी

गुरु के ही अच्छे ज्ञान के कारण इस शिष्य ने ऐसा कर दिखाया। हर कोई इस छात्र की तारीफ कर रहा है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...