Pehchan Faridabad
Know Your City

15 जून को देश मे होगा सम्पूर्ण लाकडॉऊन? जाने क्या है इस वायरल मैसेज की सच्चाई

15 जून को देश मे होगा सम्पूर्ण लाकडॉऊन? जाने क्या है इस वारयल मैसेज की सच्चाई

कोरोना संक्रमण सभी देशों के लिए एक काल से कम नहीं है। कोरोना की वजह से कई लाख लोगों की जान भी चली गई है,और दूसरी तरफ अर्थव्यवस्था पर भी इसने अपना अच्छा खासा असर डाल रखा है और अभी देशों में कोरोना सक्रमण की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। वहीं इस महामारी के बीच अफवाहो की हवा भी काफी गर्म है। पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है जिसमें लिखा है कि 15 जून से देश में फिर से संपूर्ण लॉकडाउन लगने वाला है। जिसने अपने जो भी काम निपटाने हैं, वह जल्दी निपटा लें।


इस एक मैसेज की वजह से इसने बहुत से लोगों को परेशान कर दिया है।और इसमें सबसे बड़ी यह है, कि इसमें एक न्यूज़ चैनल का नाम इस्तेमाल करते हुए सोशल मीडिया पर यह फेक न्यूज़ फैलाई जा रही है। हालांकि प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो की फैक्टचेक इकाई ने इस मैसेज को फर्जी बताया है इस फर्जी मैसेज में कहा जा रहा है कि गृह मंत्रालय ने दिए संकेत ट्रेन और हवाई सफर पर लगेगा ब्रेक कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से बाद में यह फैसला लिया गया।

पीआईबी (प्रेस इनफॉरमेशन ब्यूरो) ने इस वायरल मैसेज की पड़ताल की और इस मैसेज को फर्जी बताया पीआईबी ने ट्विटर कर लिखा कि सोशल मिडिया पर एक फोटो में दावा किया जा रहा है कि गृह मंत्रालय द्वारा ट्रेन और हवाई यात्रा के साथ 15 जून से फिर से पूरे देश में पूर्ण लाकडॉऊन लागू किया जा सकता है (पीआईबी) ने यह बिल्कुल फर्जी बताया है।


#PIBFactcheck-यह#Fake है फेक न्यूज़ फैलाने वाली भ्रामक फोटो से सावधान रहें।
अगर हम बीते कुछ दिनों में गूगल पर भारत से जुड़ा डेटा देखें तो हम पाएंगे की 15 जून को लॉकडाउन से जुड़े सर्च के सवाल को काफ़ी लोगों ने सर्च किया। इससे जुड़े कीवर्ड्स पर सर्च में काफी उछाल देखा गया। इससे पहले भारत सरकार ने चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन प्रतिबंधों में धीरे-धीरे ढील देने के लिए प्लान अनलॉक इंडिया लागू किया।


सोशल मीडिया न जाने ऐसे बहुत से फर्जी मैसेज आते हैं तो आप भी इन सभी फर्जी मैसेज से सावधान रहें और अपने को भी सवस्थ रखें।


Written by- Abhishek

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More