HomeUncategorized30 साल बाद गांव पहुंचे बेटों ने उतारा स्व. पिता का कर्ज,...

30 साल बाद गांव पहुंचे बेटों ने उतारा स्व. पिता का कर्ज, सभी ग्रामीणों के खिल उठे चेहरे

Published on

कहा जाता है कि उम्मीद पर दुनिया कायम है ऐसा ही एक मामला हिसार के नियाणा से सामने आया है जहां तीस साल बाद अपने स्वर्गीय पिता का कर्ज उतारने के लिए बेटे गांव लौटे। उनके इस कदम से गांव का हर व्यक्ति बहुत प्रसन्न है और वे बेटों की सराहना करते नहीं थक रहे।

आपको बता दें कि यह पूरा मामला आज से करीब तीस वर्ष पहले का है। सेठ जगन व नरसी दोनों उसी गांव के निवासी थे और वे गांव के ही किसानों की फसल खरीद का कार्य करते थे।

30 साल बाद गांव पहुंचे बेटों ने उतारा स्व. पिता का कर्ज, सभी ग्रामीणों के खिल उठे चेहरे

एक सीजन व्यापार में घाटा होने के कारण वे किसानों की रकम दिए बिना ही गांव छोड़ कर चले गए। उनके जाने के बाद सभी ग्रामीणों ने अपनी फसल की रकम प्राप्त करने लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी लेकिन सेठ का कोई अता–पता नहीं चला।

लेकिन तीस साल बाद जब सेठ के बेटों ने गांवों को सूचना दी कि वे अपने पिता का कर्ज उतारने के लिए गांव आ रहे हैं। यह सूचना मिलते ही गांववासियों के चेहरे खिल उठे। बेटे गांव आए और जिसका जितना पैसा था उन्होंने सब खुशी–खुशी लौटा दिया।

30 साल बाद गांव पहुंचे बेटों ने उतारा स्व. पिता का कर्ज, सभी ग्रामीणों के खिल उठे चेहरे

सभी ग्रामीणों ने उनके इस कदम की सराहना की। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने रकम को ब्याज के साथ लौटाने को कहा। लेकिन वहां मौजूद बुजुर्गों ने समझाया कि ब्याज से तो मूल है प्यारा।

जब बेटे सतीश और मोहन से बातचीत की तो उन्होंने बताया कि पिताजी ने मरते समय उनसे कहा था कि वह व्यापार में घाटे के कारण गांव वालों के पैसे चुकाए बिना ही गांव छोड़कर चले गए थे। अब भगवान की कृपा से हमारा काम बहुत बढ़िया चल रहा है। तुम्हें गांव वालों के पैसे चुकाने है ताकि उनके उपर लगा यें कलंक उतर जाएं।

उन्होंने आगे कहा कि बस पिताजी की यही बात उनके दिल में घर कर गई और उन सभी भाईयों ने मिलकर यह निर्णय लिया कि चाहे कैसे भी हों, उन्हें पिताजी की आखिरी इच्छा को पूरा करना है। उन्होंने बताया कि तीन गांवों नियाणा, मिर्जापुर व खोखा में लगभग 15 लाख की देनदारी थी जो उन्होंने चुकता कर दी है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...