Homeससुर ने कायम की मिसाल : बेटे की मौत के बाद बहू...

ससुर ने कायम की मिसाल : बेटे की मौत के बाद बहू की शादी करवा के साथ दान किया इतना बड़ा उपहार

Array

Published on

किसी भी पिता के लिए सबसे बड़ा दुःख होता है अपने बेटे को खो देना। किसी भी पत्नी के लिए सबसे असहनीय दुःख होता है अपने पति को खो देना। इस दुनिया में आपको हर तरह के इंसान मिल जाएंगे। कोई इंसान अपने नेक काम की वजह से लोगों की तारीफ बटोरता है तो कई लोग अपने बुरे कामों की वजह से जाने जाते हैं।

इतिहास गवाह है कि इंसान के साथ उसकी अच्छाई हमेशा जाती है। अच्छे कर्मों को हमेशा याद किया जाता है। आप लोगों ने ऐसी बहुत सी खबरें सुनी होंगी, जिसमें जब किसी महिला का पति इस दुनिया को छोड़ कर चला जाता है तो ससुराल वाले उस पर अत्याचार करते हैं। यहां तक कि घर में रहना भी विधवा महिला के लिए काफी मुश्किल हो जाता है।

ससुर ने कायम की मिसाल : बेटे की मौत के बाद बहू की शादी करवा के साथ दान किया इतना बड़ा उपहार

महिला के लिए ऐसे पल निकालना सबसे कठिन काम हो जाता है। उसकी ज़िंदगी काफी बेरस हो जाती है। लेकिन आज हम आपको मध्यप्रदेश के एक परिवार के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। इस परिवार की तारीफ प्रदेश के चारों तरफ हो रही है। आपको बता दें कि डिप्टी रेंजर पद से रिटायर हुए रवि शंकर सोनी के बेटे संजय सोनी की एक महीने पहले सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी जिसकी वजह से घर में बहू और दो बच्चियों के सिर से पिता का साया उठ गया था।

ससुर ने कायम की मिसाल : बेटे की मौत के बाद बहू की शादी करवा के साथ दान किया इतना बड़ा उपहार

साया उठ जाने के बाद चहुंओर मातम का आना – जाना था। उनकी मृत्यु के पश्चात पूरे परिवार में मातम का माहौल बना हुआ था। सभी लोग बेहद दुखी थे। खासतौर से संजय सोनी की पत्नी पर क्या बीत रही होगी, यह शब्दों में बयां करना बेहद मुश्किल है। बेटे संजय सोनी की मृत्यु के बाद बहू का रो-रो कर बुरा हाल था। पति के जाने की वजह से वह पूरी तरह से टूट गईं थीं। रवि शंकर सोनी का ऐसा बताना है कि उनके बेटे संजय का विवाह 2008 में करेली की रहने वाली सरिता से हुई थी। जिनकी दो बेटियां हैं।

ससुर ने कायम की मिसाल : बेटे की मौत के बाद बहू की शादी करवा के साथ दान किया इतना बड़ा उपहार

बेटियों की उम्र भी काफी छोटी है। ससुराल और घर में चिंता बढ़ती जा रही थी कि इन बच्चियों का क्या होगा। इसी बीच रविशंकर ने एक बड़ा ही साहसिक कदम उठाया। जी हां, रवि शंकर ने अपनी बहू का दूसरा विवाह कराने का फैसला ले लिया। उनके परिवार ने अपने बहू की विदाई बेटी की तरह अपने घर से की। साथ सारी संपत्ति भी बहु के नाम कर दी।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...