HomeUncategorizedहरियाणा प्रदेश के सबसे पुराने हाउसिंग बोर्ड सबसे बेकार है हालात,जाने क्या...

हरियाणा प्रदेश के सबसे पुराने हाउसिंग बोर्ड सबसे बेकार है हालात,जाने क्या है मामला ?

Published on

फरीदाबाद : सेक्टर 7 A हरियाणा प्रदेश का सबसे पुराना हाउसिंग बोर्ड है लेकिन यहां की समस्याएं भी इसी प्रकार पुरानी हो चुकी है पार्षद बदले या विधायक बदले लेकिन इस इलाके की समस्या दिन प्रतिदिन बदलने की जगह बढ़ती जा रही है गलियों में निकलता सीवर का पानी लोगों की जिंदगी नरक बना रहा है।

घरों के बाहर बहता सीवर का पानी इस हाउसिंग बोर्ड में रहने वाले लोगों के लिए सर का दर्द बन चुका है लोगों के घरों के अंदर रहने के बावजूद भी गंदे पानी की बदबू उनके घरों तक पहुंचती है ऐसे में घरों के अंदर भी टिक पाना बेहद मुश्किल हो चुका है समस्या इतनी ज्यादा बढ़ चुकी है कि लोगों के इस सीवर के कारण कई बार चोट भी लगी है लोग कई बार घटना के कारण चोटिल हुए हैं।

हरियाणा प्रदेश के सबसे पुराने हाउसिंग बोर्ड सबसे बेकार है हालात,जाने क्या है मामला ?



यहां के निवासियों से बातचीत करने के बाद पता चला कि कई बार सोशल मीडिया से लेकर अधिकारियों के दफ्तर तक लिखित रूप से शिकायत दर्ज कराई गई है लेकिन लोगों को किसी भी प्रकार का आश्वासन नहीं मिल पा रहा है और ना ही समस्या से समाधान दिया जा रहा है ऐसे में लोगों के अंदर मौजूदा अधिकारियों और नेताओं के लिए कूट-कूट कर गुस्सा भरा हुआ देखने को मिला।

हरियाणा प्रदेश के सबसे पुराने हाउसिंग बोर्ड सबसे बेकार है हालात,जाने क्या है मामला ?



कहने को तो यह इलाका रिहायशी इलाकों में से एक है लेकिन फिर भी इस इलाके की समस्या दिन प्रतिदिन इस इलाके को बेहद बेकार बनाती जा रही है यहां के निवासियों ने यह भी कहा की उनके इस हाउसिंग बोर्ड को बांग्लादेश की तरह समझा जाता है जहां किसी भी प्रकार की सरकार द्वारा सुविधा नहीं दी जाती क्योंकि यह उनकी सीमा से बाहर है लोगों का यह भी कहना है कि संबंधित अधिकारी साफ सफाई करने के लिए बिना किसी औजार के आते हैं क्योंकि उन्हें नगर निगम द्वारा सीवर की सफाई के लिए औजार नहीं दिए गए हैं।

हरियाणा प्रदेश के सबसे पुराने हाउसिंग बोर्ड सबसे बेकार है हालात,जाने क्या है मामला ?



नगर निगम में बैठे अधिकारी केवल अपनी कुर्सी पर बैठते हैं लेकिन जमीनी स्तर पर क्या हो रहा है इस चीज का उन्हें कोई लेना देना नहीं यह बात कहते हुए लोगों ने यह भी कहा कि नगर निगम में समय समय से टैक्स की भरपाई भी की जाती है लेकिन फिर भी यदि इसी तरह की समस्याओं को उन्हें झेलना पड़ता है तो वह टैक्स भरने की जगह पैसा इकट्ठा कर अपनी इस गली को बनवा लेंगे।

अब देखना यह है कि यहां रहने वाले लोगों की समस्या का समाधान आखिर कब तक हो पाता है

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...