HomePoliticsतिगांव के राजेश नागर को मिला है न सिर्फ विधायक का औधा,...

तिगांव के राजेश नागर को मिला है न सिर्फ विधायक का औधा, बल्कि जनता कहती हैं उन्हें अपना बेटा

Published on

नेता के अनेकों रूप आमजन ने देखें हैं। कई बार जो नेता वोट के समय वोट बैंक की राजनीति करने के लिए आमजन से जुमला करते हुए दिखाई देता है, तो वहीं कुछ एक नेता हाथ जोड़ें आमजन से उसे सत्ता की कुर्सी पर बिठाने के लिए तरह तरह के लालच देते हैं। मगर उनमें भी चुनिंदा ऐसे होते है, जो वोट बैंक के लिए नहीं वास्तव में जनसेवा के लिए जनता का बेटा बनकर समाजसेवी बनकर जनता से जुड़े होने के लिए वोट मांगने पहुंचे हैं।

वहीं कई बार जनता भी अपना विकास करने के लिए अपने वोट को आजमाने का प्रयास करती है। कई बार या फिर यूं कहें अधिकांश समय जनता को अपनी मुंह की खानी पड़ती है। मगर कहते है न जरूरी नहीं हर कोई एक जैसा होता हैं। इन्हीं कारणों से खुदको जनता के बीच नेता गण असहज महसूस करते हैं।

तिगांव के राजेश नागर को मिला है न सिर्फ विधायक का औधा, बल्कि जनता कहती हैं उन्हें अपना बेटा

मगर बात की जाएं फरीदाबाद जिले के अंतर्गत आने वाले थे गांव तिगांव की जिसके विधायक वर्तमान में राजेश नागर है। उन्हें टक्कर देने वाला कोई नहीं है। दरअसल, राजेश नागर ने न सिर्फ एक विधायक बल्कि जनता का बेटा बन कर अपने गांव का चौमुखी विकास किया हैं।

इसका उदाहरण तो विधानसभा के दौरान हुए वोटिंग के देख कर ही लगा सकते हैं क्योंकि जनता ने ना सिर्फ राजेश नागर के लिए इतना प्यार बल्कि उन्हें जिताने के लिए हर मुमकिन प्रयास किए हैं, तभी तो आलम यह है कि बीजेपी प्रत्याशी राजेश नागर ने सभी 21 राउंड में दबदबा बनाया रखा।

तिगांव के राजेश नागर को मिला है न सिर्फ विधायक का औधा, बल्कि जनता कहती हैं उन्हें अपना बेटा

उन्होंने पहले राउंड से बढ़त बनानी शुरू कर दी थी। वह फरीदाबाद लोकसभा की 9 विधानसभा सीटों में से तिगांव क्षेत्र में सबसे अधिक 33841 वोटों से जीतने में कामयाब रहे हैं। वह आमने-सामने की टक्कर में कांग्रेसी प्रत्याशी ललित नागर को हराने में कामयाब रहे, जबकि कुल 11 प्रत्याशियों में से 9 उम्मीदवार अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए।

तिगांव विधानसभा क्षेत्र में 11 प्रत्याशी चुनावी मैदान में थे, लेकिन बीजेपी और कांग्रेसी प्रत्याशियों के बीच कड़ा मुकाबला था। राजेश नागर को 97126 कुल वोट मिले, जिनमें 35 पोस्टल वोट भी शामिल हैं। कांग्रेस प्रत्याशी ललित नागर को 63285 वोट मिले। ललित नागर को 11 पोस्टल वोट मिले। इस जंग को राजेश नागर 33841 वोटों से जीतने में सफल रहे हैं।

तिगांव के राजेश नागर को मिला है न सिर्फ विधायक का औधा, बल्कि जनता कहती हैं उन्हें अपना बेटा

इनेलो के उमेश भाटी को 1538 वोट मिले, जिनमें 2 पोस्टल वोट शामिल हैं। भारतीय शक्ति चेतना पार्टी के प्रत्याशी कृष्णपाल सिंह ने 488 वोट मिले। इनमें 1 पोस्टल वोट शामिल है। जेजेपी के प्रत्याशी प्रदीप चौधरी ने 2693 वोट प्राप्त किए, जिनमें 3 पोस्टल वोट भी शामिल हैं।

जनता दल से बिरेश कुमार सिंह ने कुल 854 वोट प्राप्त किए। इनके अलावा लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी के प्रत्याशी मनोज भाटी ने कुल 180 वोट प्राप्त किए। अखिल भारतीय किसान मजदूर पार्टी के प्रत्याशी रणधीर सिंह उर्फ धीरू खटाना ने 480 वोट प्राप्त किए। बहुजन मुक्ति पार्टी के प्रत्याशी श्याम मंडल ने 191 वोट प्राप्त किए।

निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में एक अन्य ललित नागर ने 505 और निर्दलीय उम्मीदवार सोनू कुमार ने 354 वोट प्राप्त किए। वहीं दूसरी ओर तिगांव विधानसभा क्षेत्र में 1569 लोगों ने नोटा का प्रयोग किया, जिनमें से एक पोस्टल वोट भी शामिल है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...