Homeलॉकडाउन में गांव जाने के लिए चुराई थी बाइक, अब पैसे वाला...

लॉकडाउन में गांव जाने के लिए चुराई थी बाइक, अब पैसे वाला बना तो मालिक को दिया ये खास तोहफा

Published on

महामारी के कारण लगे लॉकडाउन में सभी की आर्थिक स्थिति काफी कमज़ोर हो गयी थी। हर किसी ने काफी बुरे दिन देखे थे। संक्रमण के प्रसार रोकने के लिए देश में लॉकडाउन की घोषणा की गई थी। 24 मार्च से जारी इस लॉकडाउन के बीच कई ऐसी घटनाएं हुईं, जिसने हर किसी को गमगीन कर दिया। चाहे प्रवासी मजदूरों का पैदल बड़े शहरों से पलायन हो या फिर ट्रेन, ट्रक हादसे या भूख और गरीबी से परेशान लोग।

आज भी उन पलों को याद कर रोंगटे खड़े हो जाते हैं। लोगों के काम ठप हो गए थे। उस समय कई ऐसी तस्वीरें आईं, जिसने लोगों की आंखें नम कर दीं। इस बीच एक और ऐसी ही खबर सामने आई है, जहां एक युवक ने भूख और गरीबी से परेशान अपने परिवार को घर तक पहुंचाने के लिए चोरी का सहारा लिया।

लॉकडाउन में परिवार को घर पहुंचाने के लिए शख्स ने मजबूरी में चुराई बाइक, काम होने के बाद पार्सल कर लौटाई

उस युवक के पास कोई संसाधन नहीं था। पैसों की कमी थी। लाचार घूम रहा था। दरअसल, घटना तमिलनाडु के कोयंबटूर की है, जहां चाय की दुकान पर काम करने वाला शख्स लॉकडाउन के बीच गरीबी से काफी परेशान हो गया। अपने परिवार को भुखमरी से बचाने के लिए युवक ने पहले तो एक बाइक चुराई और फिर अपने बीवी-बच्चों को उस बाइक से लेकर घर पहुंचा। जैसे ही युवक का काम हो गया, उसने करीब दो हफ्ते बाद बाइक को पार्सल के जरिए बाइक के मालिक के पास वापस भेज दिया।

लॉकडाउन में गांव जाने के लिए चुराई थी बाइक, अब पैसे वाला बना तो मालिक को दिया ये खास तोहफा

इस घटना ने उस युवक की इंसानियत को नमन करवाया। काफी चर्चा उस युवक की शहर में हो रही है। बाइक के मालिक एक व्यवसायी हैं, जो इंजीनियरिंग टूल बनाने की यूनिट चलाते हैं। बाइक के मालिक सुरेश कुमार को पार्सल वाले ने फोन कर बाइक की सूचना दी। जिस पर सुरेश हैरान रह गए। जहां उन्हें अपनी बाइक मिलने की खुशी हुई तो वहीं पे ऑन डिलेवरी के ऑप्शन से थोड़ी निराशा हुई।

bike chor 2017 hindi short film part 4 - YouTube

खोयी हुई चीज को वापस पाकर मालिक काफी खुश हुए। बाइक भेजने वाले शख्स ने आर्थिक तंगी के चलते पार्सल के पैसे नहीं दिए थे, जिसके चलते सुरेश कुमार को खुद ही पार्सल के पैसे देने पड़े।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...