HomeEducationफरीदाबाद स्थित एश्लॉन इंस्टीट्यूट "जेसी बोस यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी से...

फरीदाबाद स्थित एश्लॉन इंस्टीट्यूट “जेसी बोस यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी से जुड़ने वाला जिले का पहला कॉलेज :

Published on

देशभर में इंजियरिंग शिक्षा के क्षेत्र में अनुभवी एवं अग्रणी एश्लॉन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की टीम ने सभी को सूचित करते हुए बताया कि ”जेसी बोस यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी” वाईएमसीए के सेशन 2021- 22 से जुड़ने वाला फरीदाबाद का पहला कॉलेज “एश्लॉन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी” बन गया है।

किसी भी राष्ट्र के विकास में राष्ट्र के युवाओं का खास योगदान होता है। सुशिक्षित एवं सक्षम  युवा ही राष्ट्र के विकास और निर्माण में युवाओं की अहम भूमिका होती है, एश्लॉन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी इस कार्य को बखूबी कर रहा है। युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ न हो इसके लिए एश्लॉन कॉलेज निरंतर बेहतर से बेहतर शिक्षा प्रदान कराने का प्रयास करता रहता है।

फरीदाबाद स्थित एश्लॉन इंस्टीट्यूट "जेसी बोस यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी से जुड़ने वाला जिले का पहला कॉलेज :

वैसे तो फरीदाबाद में अनेकों ऐसे संस्थान हैं जो युवाओं को शिक्षित करने का कार्य कर रहे हैं। लेकिन इस क्षेत्र में एश्लॉन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी का अपना एक अलग स्थान है। युवाओं को शिक्षित व सक्षम बनाने में एश्लॉन इस्टीट्यूट की अलग पहचान है। एश्लॉन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी प्रोफेशनल एजुकेशन इंस्टीट्यूट है, जिसमें विद्यार्थियों के लिए बीटेक, एमटेक, बीबीए जैसे कोर्सेज उपलब्ध हैं।

फरीदाबाद स्थित एश्लॉन इंस्टीट्यूट "जेसी बोस यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी से जुड़ने वाला जिले का पहला कॉलेज :

बता दें कि फरीदाबाद के कबूलपुर गांव में स्थित एश्लॉन इंस्टीट्यूट शिक्षविदो, प्रशासन, गुणवत्ता और प्रक्रियाओं में राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर इंजीनियरिंग शिक्षा के क्षेत्र में परिवर्तन करने के लिए निरंतर कार्य कर रहा है। अपने प्रोफेशनल कोर्सेज के साथ एश्लॉन इंस्टीट्यूट पूरे फरीदाबाद में प्रसिद्ध है।

पिछले 14 सालों से एश्लॉन इंस्टीट्यूट शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी है। इंस्टीट्यूट में 17.5 एकड़ कैंपस हैं तथा यहां अभी तक 300 से भी ज्यादा सेमिनार हो चुके हैं। साथ ही एश्लॉन इंस्टीट्यूट के करीब 2800 से ज्यादा एलमनी हैं।

फरीदाबाद स्थित एश्लॉन इंस्टीट्यूट "जेसी बोस यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी से जुड़ने वाला जिले का पहला कॉलेज :

ज्ञात है कि वर्तमान समय में फरीदाबाद में अनेकों शिक्षण संस्थान चल रहे हैं। लेकिन एश्लॉन इंस्टीट्यूट का अपना एक अलग ही रुतबा है, अलग पहचान है। विद्यार्थियों के मानसिक विकास के साथ – साथ शारीरिक विकास में भी एश्लॉन इंस्टीट्यूट अपनी भूमिका निभा रहा है।

यहां समय – समय पर खेलों का आयोजन किया जाता है। कुछ महीनों पहले यहां प्रीमियर का आयोजन भी किया गया था, जिसमे जिले की अनेकों टीमों ने बढ़ – चढ़कर हिस्सा लिया था। कहा जा सकता है कि युवाओं के भविष्य निर्माण में एश्लॉन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एक सबसे अच्छा विकल्प है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...