Pehchan Faridabad
Know Your City

जाने डॉक्टरों के साथ हुई पांच घटनाएं,जो इंसानियत को करती है शर्मसार

कोरोना वायरस के कारण आज जहां पूरा देश इस बीमारी से लड़ रहा है। डॉक्टर और नर्स भी अपनी जान जोखिम में डालकर कोरोना रोगियों का इलाज कर रहे हैं। लेकिन डॉक्टरों के साथ कुछ घटनाएं ऐसी होती है जो पूरे समाज को ठेस पहुंचाती है और लोग शर्मसार हो जाते हैं।

आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे 5 घटनाएं जो इंसान के लिए बहुत ही शर्मनाक है –

कस्तूरबा गांधी अस्पताल दिल्ली

नॉर्थ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के डॉक्टर पिछले 3 महीने से सैलरी न मिलने के कारण परेशान है, उनका कहना है कि अगर 16 जून तक सैलरी नहीं मिलती है तो वह सामूहिक इस्तीफा दे सकते हैं। इसके लिए उन्होंने प्रशासन को चिट्ठी भी लिखी है।

बिना छुट्टी लगातार काम कर रहे हैं बिहार के डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ

एक खबर के अनुसार बिहार के सरकारी अस्पताल के सभी डॉक्टर, नर्स और पैरामेडिकल स्टाफ बिना किसी छुट्टी के पिछले 3 महीनों से लगातार काम कर रहे हैं,और वह पूरी तरह से थक चुके हैं।उनका कहना है कि बिहार सरकार ने उनकी 30 जून तक सारी छुट्टियां रद्द कर दी है ।इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के बिहार से सेक्रेटरी सुनील कुमार ने कहा है कि सारे डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ लॉक डाउन के बाद से लगातार काम कर रहे हैं और इस दौरान वे न अपना ख्याल रख रहे हैं और ना ही अपने परिवार का।

तेलंगाना के गांधी अस्पताल के डॉक्टर पर जानलेवा हमला।

हैदराबाद के राजीव गांधी अस्पताल में एक डॉक्टर पर रॉड से हमला कर दिया गया। एक मरीज की मौत के बाद उसके परिजनों ने डॉक्टर पर हमला किया और अस्पताल में तोड़फोड़ तोड़फोड़ भी किया।इसके बाद से डॉक्टर ने स्ट्राइक पर जाने की धमकी दी है वे अन्य राज्यों की तरह अपने लिए सुरक्षा की मांग कर रहे हैं तथा उनका आरोप है कि वह 24-24 घंटे काम करते हैं लेकिन सरकार उन्हें कोई सहायता उपलब्ध नहीं कराती है।

महावीर अस्पताल दिल्ली के डॉक्टरों का कटा वेतन

महावीर अस्पताल के दो डॉक्टरों का वेतन काट लिया गया है, इसके लिए उन्होंने दिल्ली सरकार को चिट्ठी भी लिखी है।

SVP अस्पताल अहमदाबाद की नर्सों की कटी सैलरी

अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के SVP अस्पताल के करीब 300 नर्सिंग स्टाफ, पैरामेडिकल स्टाफ, टेक्नीशियन और गेस्ट रिलेशन एग्जीक्यूटिव का वेतन काट लिया गया है। जिसके कारण इन सब लोगों ने मिलकर स्ट्राइक कर चुके है। इन लोगों के पास मेल आया था, जिसके मुताबिक जिन को 30,000 मिलते थे उन्हें 22 हजार मिलेंगे और जिनकी सैलरी 20,000 थी उनको 14 हजार मिलेगी।

24 घंटे बिना थके बिना हारे और भगवान का दूसरा रूप माने जाने वाले डॉक्टरों के साथ इस तरह का व्यवहार करना बहुत ही गलत तथा दुर्भाग्यपूर्ण है। सरकार को ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए ताकि आगे लोगों के साथ ऐसी घटना ना हो।

Written by – Ankit Kunwar

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More