HomeSportsनीरज चोपड़ा: जिस खेल ने बनाया स्वर्ण पदक विजेता, पिता को नाम...

नीरज चोपड़ा: जिस खेल ने बनाया स्वर्ण पदक विजेता, पिता को नाम तक नहीं था पता, पहली बार देखा लाइव मैच

Published on

दस साल पहले जब नीरज अपना वजन कम करने स्टेडियम जाते तब शुरुआत में उनसे सारे गेम्स खिलवाए जाते थे। जिसमें से एक जैवलिन भी था। नीरज हर रोज स्टेडियम जाता था और भाला फेंक की वीडियो रिकॉर्ड करता था। उसके बाद अपने पिता को आकर दिखाता था। परिवार में किसी को पता नहीं था कि नीरज की किस खेल में रुचि है।

नीरज के पिता ने बताया कि उन्होंने नीरज से कभी नहीं पूछा कि वह किस खेल की तैयारी कर रहा है। जब पिता ने नीरज की भाला फेंक की वीडियो देखी तब उनको पता चला कि नीरज का पसंदीदा खेल जैवलिन है।

नीरज चोपड़ा: जिस खेल ने बनाया स्वर्ण पदक विजेता, पिता को नाम तक नहीं था पता, पहली बार देखा लाइव मैच

नीरज के स्टेडियम जाने से पहले परिवार में किसी ने भी जैवलिन का नाम तक नहीं सुना। पिता ने आगे बताया कि बेटे के बताने के बाद भी उनको पता नहीं चल पाया की यह कौन सा खेल है। नीरज ने जब अपनी वीडियो दिखाई तब उनको पता चला कि भाले को जैवलिन कहते हैं।

नीरज चोपड़ा टोक्यो ओलंपिक गोल्ड 2020
एथलेटिक्स, Athletics, javelin throw, भाला फेंक

इतने सालों में नीरज के पिता ने पहली बार ओलंपिक में बेटे का प्रदर्शन लाइव देखा। पानीपत के शिवाजी स्टेडियम में जैवलिन की शुरुआत से लेकर नीरज के पिता कभी उसका खेल देखने न तो स्टेडियम गए और न ही टीवी पर लाइव देखा।

लेकिन शनिवार को पिता ने पूरे गांव वालों के साथ नीरज का फाइनल मुकाबला लाइव देखा। वहीं कोच जितेंद्र बताते हैं कि शुरुआत से लेकर अभी तक नीरज के पिता एक बार भी बेटे का मुकाबला देखने नहीं आए। यह पहली बार था जब उन्होंने नीरज का मैच देखा।

https://twitter.com/DDNewslive/status/1424007375678107656?s=20

खेल की शुरुआत के तीन महीने बाद पिता सतीश ने एल्यूमीनियम मिक्स पहला भाला दिलवाया जिसकी कीमत सात हजार रुपए थी। नीरज के अच्छे प्रदर्शन के बाद उन्होंने अपना दूसरा भाला 50 हजार रुपए का खरीदा। फिलहाल नीरज डेढ़ लाख के भले से अभ्यास करते हैं।

नीरज चोपड़ा टोक्यो ओलंपिक गोल्ड 2020

मुकाबले में 80 मीटर से नीचे भाला रह जाने पर नीरज के पिता ने कहा कोई बात नहीं। गांव खंडरा से ही नीरज को प्रोत्साहित किया गया। पिता को देख ऐसा लग रहा था मानो वह नीरज के साथ खड़े होकर उसमें जोश भर रहे हों। वहीं मैच के दौरान वह कई बार खुशी से नाचते दिखे तो कई बार मन्नतें भी मांग रहे थे।

नीरज चोपड़ा: जिस खेल ने बनाया स्वर्ण पदक विजेता, पिता को नाम तक नहीं था पता, पहली बार देखा लाइव मैच

अपनी पहली ही ओलंपिक में नीरज ने स्वर्ण पदक जीतकर पिता सतीश चोपड़ा का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया। पिता सतीश ने कहा कि चार साल पहले राष्ट्रमंडल खेलों के बाद सब बदल गया। राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण और जूनियर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के बाद से गांव खंडरा की जगह लोग नीरज का गांव कहकर ज्यादा जानते हैं।

नीरज चोपड़ा टोक्यो ओलंपिक गोल्ड 2020

गांव खंडरा की जगह लोग कहते हैं नीरज के गांव जाना है। अब ओलंपिक में गोल्ड लाकर नीरज ने गांव का नाम पूरे भारत में प्रसिद्ध कर दिया। अब देश के लोग खंडरा को नीरज के नाम से जानेंगे।

चाचा भीम चोपड़ा ने कहा कि जब तक हमने नीरज को पाला तब तक वह केवल हमारा बेटा था लेकिन ओलंपिक में गोल्ड जीतने के बाद वह पूरे देश का बेटा बन गया है।

नीरज चोपड़ा: जिस खेल ने बनाया स्वर्ण पदक विजेता, पिता को नाम तक नहीं था पता, पहली बार देखा लाइव मैच

दादा धर्मवीर सिंह चोपड़ा ने कहा कि गांव आने पर नीरज का भव्य स्वागत किया जाएगा। पोते नीरज ने पूरे देश का नाम रोशन किया है। दादा ने आगे कहा कि उनको अपने पोते पर पूरा विश्वास था कि वह एक दिन देश का नाम जरूर रोशन करेगा।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...