Home'लक्ष्मी' की मासूमियत देख दिल दे बैठे थे आलोक, दोनों की एक...

‘लक्ष्मी’ की मासूमियत देख दिल दे बैठे थे आलोक, दोनों की एक बेटी भी हुई, फिर क्यों हो गए अलग ?

Array

Published on

सच्चा प्यार बस एहसास देखता है उसे ज़माने की कोई फ़िक्र नहीं होती है। देश में एसिड वार के खिलाफ जंग का चेहरा बन कर उभरी लक्ष्मी अग्रवाल का जन्म 1 जून 1990 को हुआ था। लक्ष्मी अग्रवाल को दिल दे बैठने वाले आलोक दीक्षित आज उनके साथ नहीं है। दोनों के बीच का रिश्ता खत्म हो चुका है लक्ष्मी अग्रवाल एसिड पीड़ितों के अधिकारों के लिए बोलती है। वह स्वयं भी एक ऐसिड वार सर्वाइवर है।

उन्होंने कई लोगों को अपनी हिम्मत से प्रेरित किया है। उनकी कहानी हर कोई जानना चाहता है। सिर्फ 15 साल की उम्र में वर्ष 2002 में एक 32 वर्षीय युवक गुड्डू उर्फ नईम खान ने उनके ऊपर यह वार किया था।

'लक्ष्मी' की मासूमियत देख दिल दे बैठे थे आलोक, दोनों की एक बेटी भी हुई, फिर क्यों हो गए अलग ?

लव जिहाद शुरू से ही भारत में बड़ी समस्या रहा है। नईम खान ने एक किशोरी की ज़िंदगी बर्बाद कर दी। फिल्म “छपाक” के कारण एसिड वार सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल सुर्खियों में आई थीं। दीपिका पादुकोण ने इस फिल्म में लक्ष्मी का किरदार निभाया था। लक्ष्मी की जिंदगी के बारे में हर कोई जानता है। खूबसूरती और मासूमियत को देख दिल बैठे आलोक दीक्षित आज उनके साथ नहीं है।

'लक्ष्मी' की मासूमियत देख दिल दे बैठे थे आलोक, दोनों की एक बेटी भी हुई, फिर क्यों हो गए अलग ?

कई लोगों ने उन्हें समझाया था कि यह कदम न उठायें लेकिन फिर भी दोनों के बीच दूरियां बढ़ चुकी हैं। लक्ष्मी अग्रवाल आज फिर अकेली हो गई है। दोनों का रिश्ता टूट चुका है। लक्ष्मी और आलोक की एक प्यारी सी बेटी भी है जिसका नाम पीहू है। लक्ष्मी अग्रवाल एक बेहतरीन गायिका भी हैं। गायिका बनने का सपना लक्ष्मी बचपन से ही देखती थीं। लेकिन एक दिल दहलाने वाली घटना ने उनका पूरा जीवन बदल कर रख दिया।

'लक्ष्मी' की मासूमियत देख दिल दे बैठे थे आलोक, दोनों की एक बेटी भी हुई, फिर क्यों हो गए अलग ?

उनकी हिम्मत और सहस के आगे बढ़े से बढ़ा व्यक्ति भी झुक जाता है। उस घटना के बाद लक्ष्मी का चेहरा ही बदल गया, लेकिन उनका हौसला कभी कम नहीं हुआ। साल 2006 में पीआईएल डालकर उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से ऐसिड बैन करने की मांग की।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...