HomeUncategorizedहद ही हो गई: दिव्यांगता का बनाया मजाक, फर्जी प्रमाणपत्र दिखा 13...

हद ही हो गई: दिव्यांगता का बनाया मजाक, फर्जी प्रमाणपत्र दिखा 13 साल तक लेता रहा पेंशन

Published on

हरियाणा के सोनीपत जिले में दिव्यांग होने का फर्जी प्रमाणपत्र बनाकर 13 साल तक पेंशन लेने का मामला सामने आया है। गोहाना सदर थाने की पुलिस ने रभड़ा गांव के निवासी अजीत पुत्र राम चंद्र के खिलाफ धोखाधड़ी और जालसाजी की विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

आरोप है कि अजीत 10 फीसदी ही दिव्यांग है लेकिन फर्जी दस्तावेजों की सहायता से 70 प्रतिशत दिव्यांगता का प्रमाणपत्र बनवाकर पूरे 13 साल तक दिव्यांग पेंशन प्राप्त करता रहा।

हद ही हो गई: दिव्यांगता का बनाया मजाक, फर्जी प्रमाणपत्र दिखा 13 साल तक लेता रहा पेंशन

गांव खानपुर कलां स्थित बीपीएस गवर्नमेंट महिला मेडिकल कॉलेज में आरोपी का मेडिकल परीक्षण भी किया गया। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। शिकायतकर्ता राम निवास पुत्र जीत राम भी उसी रभड़ा गांव का ही निवासी है।

70 फीसदी दिव्यांगता का नकली प्रमाण पत्र बनवाया

हद ही हो गई: दिव्यांगता का बनाया मजाक, फर्जी प्रमाणपत्र दिखा 13 साल तक लेता रहा पेंशन

उसने बताया कि अजीत ने 1999 में अपना ड्राइविंग लाइसेंस बनवाया था। उसने गोहाना के एसडीएम कार्यालय से यह ड्राइविंग लाइसेंस बनवाया था। उसके बाद 17 फरवरी 2003 को आरोपी ने सोनीपत के सीएमओ कार्यालय से 70 फीसदी दिव्यांग होने का प्रमाणपत्र बनवाया।

इसके बाद 26 मार्च 2003 को यह प्रमाणपत्र जारी कर दिया गया। प्रमाणपत्र प्राप्त करने के बाद वह हर महीने दिव्यांग पेंशन पाने लगा।

13 साल दिव्यांग बनकर ली पेंशन

हद ही हो गई: दिव्यांगता का बनाया मजाक, फर्जी प्रमाणपत्र दिखा 13 साल तक लेता रहा पेंशन

राम निवास का दावा है कि अजीत ने 26 सितम्बर 2013 को जब अपने ड्राइविंग लाइसेंस का नवीकरण करवाया, तब हुए मेडिकल परीक्षण में चिकित्सक द्वारा दिए गए फिटनेस प्रमाणपत्र के आधार पर ही उसका लाइसेंस रिन्यू किया गया। तब तक वह पूरे 13 साल तक नकली दिव्यांग बन कर दिव्यांग पेंशन प्राप्त करता रहा।

मेडिकल परीक्षण में 10 प्रतिशत दिव्यांगता ही मिली

हद ही हो गई: दिव्यांगता का बनाया मजाक, फर्जी प्रमाणपत्र दिखा 13 साल तक लेता रहा पेंशन

इसी साल 18 मार्च को गांव खानपुर कलां स्थित बीपीएस राजकीय महिला मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में आरोपित अजीत का मेडिकल परीक्षण किया गया। इस परीक्षण में उसमें केवल 10 प्रतिशत ही दिव्यांगता पाई गई। आरोपित अजीत के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 467, 468, 471 और 120 बी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Latest articles

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

Haryana के इस शख्स ने किया Bollywood के सुपरस्टार ऋतिक रोशन के साथ काम, इससे पहले भी कर चुके है कई फिल्मों में काम

प्रदेश के युवा या बुजुर्ग सिर्फ़ खेल या शिक्षा के मैदान में ही तरक्की...

More like this

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...