HomeUncategorizedजुर्माना भरने के लिए ऑटोचालक लाया बेटे का गुल्लक, पुलिसवाले ने दिखाई...

जुर्माना भरने के लिए ऑटोचालक लाया बेटे का गुल्लक, पुलिसवाले ने दिखाई दिलेरी और खुद भरा फाइन

Published on

पुलिसवालों को अक्सर उनके सख्त रवैये या फिर भ्रष्ट आचरण के लिए ही जाना जाता है। पुलिस के इस रवैये से हर कोई परेशान रहता है। लेकिन हर पुलिसवाला एक जैसा नहीं होता और न ही हर कोई रिश्वत लेता है। कई बार ड्यूटी से आगे बढ़कर पुलिसवाले आम जनता की मदद करते हैं और इसके कई उदाहरण हमारे सामने हैं। नागपुर के एक पुलिसवाले ने भी ऐसा ही कुछ किया।

जानकारी के अनुसार, सीताबुल्दी ट्रैफिक जोन के सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर अजय मालविय अपने कड़े रवैया और अनुशासन बद्धता के लिए जाने जाते हैं। ट्रैफिक पुलिस ने एक ऑटोरिक्शा चालक, रोहित खड़से को ट्रैफिक के नियम तोड़ने पर 2000 का जुर्माना लगाया।

जुर्माना भरने के लिए ऑटोचालक लाया बेटे का गुल्लक, पुलिसवाले ने दिखाई दिलेरी और खुद भरा फाइन

साथ ही रोहित का ऑटो भी पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया। रोहित ऑटोरिक्शा चलाकर ही अपने परिवार का भरण पोषण करता था। उसके पास आय का कोई दूसरा साधन नहीं था। चालान भरने के लिए रोहित अपने बेटे का गुल्लक और उसमें जमा किए सिक्के ले आया। रोहित ने इंस्पेक्टर मालविय से ऑटो लौटाने की प्रार्थना की।

जुर्माना भरने के लिए ऑटोचालक लाया बेटे का गुल्लक, पुलिसवाले ने दिखाई दिलेरी और खुद भरा फाइन

स्ट्रिक्ट कॉप मालविय से यह देखा नहीं गया और उन्होंने रोहित का चालान भर दिया। उन्होंने रोहित को जाने दिया वो उसे हिदायत दी कि वह आगे से ट्रैफिक नियम न तोड़े। नागपुर पुलिस ने ये कहानी ट्विटर पर साझा की। रोहित और उसके परिवार के साथ अजय मालविय की फोटो भी शेयर की।

बीते 8 अगस्त को ट्रैफिक पुलिस ने रोहित का चालान काटा था क्योंकि उसने नो-पार्किंग जोन में ऑटो लगाया था। रोहित के नाम कई अवैतनिक चालान होने के कारण ट्रैफिक पुलिस ने उसका ऑटो अपने कब्जे में ले लिया।

जुर्माना भरने के लिए ऑटोचालक लाया बेटे का गुल्लक, पुलिसवाले ने दिखाई दिलेरी और खुद भरा फाइन

इंस्पेक्टर अजय मालविय ने बताया कि महामारी और लॉकडाउन की वजह से रोहित पर पहले से ही कर्जे में डूबा हुआ था। उसके पास कोई सेविंग्स भी नहीं थी। जिससे वह इन कर्जों को चुका पाए। घर की आर्थिक स्थिति को देखते हुए रोहित के बेटे ने जुर्माना भरने की बात कही। अजय मालविय जैसे पुलिसवाले लोगों के दिलों में यह उम्मीद जगाते हैं कि पुलिसवालों के हाथ में केवल डंडा नहीं बल्कि सीने में भी दिल होता है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...