Homeबेटी का स्कूल बैग खरीदने निकला था व्यक्ति, पलटी किस्मत और ऐसे...

बेटी का स्कूल बैग खरीदने निकला था व्यक्ति, पलटी किस्मत और ऐसे बन गया 7 करोड़ का मालिक

Array

Published on

बेटी का स्कूल बैग खरीदने निकला था व्यक्ति, पलटी किस्मत और ऐसे बन गया 7 करोड़ का मालिक :- किस्मत का कोई भरोसा नहीं होता है। किसी भी समय इंसान की किस्मत बदल सकती है। ये एक बार फिर साबित हुआ अमेरिका में जहां एक शख्स गया तो था अपनी बेटी की स्कूल के सामान की खरीदारी करने लेकिन वहां खरीदे एक लॉटरी टिकट ने उसे 7 करोड़ रुपये से ज्यादा का मालिक बना दिया।

फ़्लोरिडा के एक व्यक्ति ने बताया कि वो अपनी बेटी के स्कूल जाने के लिए कुछ खरीदारी करने गये थे और वहीं एक स्क्रैच-ऑफ़ लॉटरी टिकट खरीदने का विचार मन में आया जिससे वो 1 मिलियन डॉलर यानी की 7,42,17,000 का जैकपॉट जीत गए।

बेटी का स्कूल बैग खरीदने निकला था व्यक्ति, पलटी किस्मत और ऐसे बन गया 7 करोड़ का मालिक

अपनी इस किस्मत का श्रेय उन्होंने अपनी बेटी को दिया है। व्यक्ति का कहना है कि मेरी बेटी के कारण ही ऐसा हुआ है। ब्रूक्सविले में रहने वाले 47 साल के क्लीवलैंड पोप ने फ्लोरिडा लॉटरी के अधिकारियों को बताया कि वह बेटी के स्कूल का सामान खरीदने गए थे और उसी दौरान लॉटरी का टिकट भी ले लिया।

टिकट लेने बाद उन्हें यकीन नहीं था कि उनकी किस्मत का दरवाजा खुल जाएगा। उन्होंने कुछ नहीं सोचा था उसे लेकर। उन्हें इसका अंदाजा भी नहीं था कि वो उस टिकट से एक झटके में 1 मिलियन डॉलर यानी लगभग साढ़े सात करोड़ का जैकपॉट जीत लेंगे।

बेटी का स्कूल बैग खरीदने निकला था व्यक्ति, पलटी किस्मत और ऐसे बन गया 7 करोड़ का मालिक

लॉटरी विजेता पोप ने जीत का सारा पैसा एकमुश्त भुगतान लेने का फैसला किया। उनकी तरफ से जिस बेवरेज स्टोर से उन्होंने विनर टिकट खरीदा उसे 2,000 डॉलर का बोनस कमीशन में दिया गया।

किस्मत का खेल बदलने में कभी समय नहीं लगता है। हमें बस सकारत्मक भाव अपने अंदर रखने होते हैं। अगर हम सकारात्मक रहेंगें तो ही हमारे साथ अच्छी चीजे होंगी। नकारात्मक रहकर हम कभी समाज में बदलाव लाने वाला काम नहीं कर सकते हैं। अगर समाज में बदलाव और खुद को बदलना है तो इसकी शुरुवात सकारात्मकता से ही होती है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...