Online se Dil tak

प्यार हो तो ऐसा : दुल्हन की रीढ़ की हड्डी टूटी फिर भी अपनाया दूल्हे ने नहीं छोड़ा साथ

प्यार अगर सच्चा होता है तो उसे किसी का डर नहीं रहता है। प्यार से बड़ी ताकत इस दुनिया में कोई नहीं है। वर्ष 2006 में बनी सूरज बड़जात्या की फ़िल्म ‘विवाह’ शायद सभी को याद हो जिसमें दुल्हन बनने वाली अमृता राव अपनी चचेरी बहन को बचाने के चक्कर में शादी के दिन आग से जल जाती हैं और दूल्हा बने शाहिद कपूर उन्हीं से शादी करते हैं।

उस फिल्म को देखने के बाद कई लोगों ने सोचा था कि यह तो बस फिल्मों में ही हो सकता है। वह रील लाइफ की पिक्चर है जो की काफी हिट भी हुई थी लेकिन यूपी के प्रयागराज में भी ऐसा ही कुछ देखने को मिला।

प्यार हो तो ऐसा : दुल्हन की रीढ़ की हड्डी टूटी फिर भी अपनाया दूल्हे ने नहीं छोड़ा साथ
प्यार हो तो ऐसा : दुल्हन की रीढ़ की हड्डी टूटी फिर भी अपनाया दूल्हे ने नहीं छोड़ा साथ

जिसने भी इस मामले के बारे में सुना तारीफ किये बिना नहीं रह सका। हर किसी की आँखे भी नम हो गयी। दिल को छू लेने वाला मामला संगम नगरी प्रयागराज में देखने को मिला जहां हाथों में मेहंदी लगी अस्पताल के बेड पर पड़ी नई नवेली दुल्हन आरती है और उसके पास बैठा युवक इसका पति अवधेश है जो कि अपनी पत्नी की देखरेख में लगा है।

प्यार हो तो ऐसा : दुल्हन की रीढ़ की हड्डी टूटी फिर भी अपनाया दूल्हे ने नहीं छोड़ा साथ
प्यार हो तो ऐसा : दुल्हन की रीढ़ की हड्डी टूटी फिर भी अपनाया दूल्हे ने नहीं छोड़ा साथ

भावुक हो कर कई लोगों ने इस जोड़े को मदद देने की घोषणा की है जो काफी मदद इनकी करेगा।

आपको बता दें, प्रतापगढ़ के कुंडा इलाके में रहने वाली आरती की शादी की तैयारियां पूरी हो गई थीं और एक शाम को बारात आने वाली थी लेकिन दोपहर में छत पर खेल रहे अपने तीन साल के भतीजे को बचाने के चक्कर में आरती छत से नीचे आ गिरी। हादसे में उसकी रीढ़ की हड्डी टूट गई और दोनों पैरों की ताकत चली गई।

प्यार हो तो ऐसा : दुल्हन की रीढ़ की हड्डी टूटी फिर भी अपनाया दूल्हे ने नहीं छोड़ा साथ
प्यार हो तो ऐसा : दुल्हन की रीढ़ की हड्डी टूटी फिर भी अपनाया दूल्हे ने नहीं छोड़ा साथ

ईश्वर का कहर कुछ ऐसा बरपा कि जिसने भी इस घटना को सुना वह भावुक हो उठा।

Read More

Recent