HomeIndiaटोक्यो ओलंपिक के रजत पदक विजेता रवि दहिया के गांव पहुंचने पर...

टोक्यो ओलंपिक के रजत पदक विजेता रवि दहिया के गांव पहुंचने पर भव्य स्वागत, सीएम ने भेंट की गदा व शॉल

Published on

टोक्यो ओलंपिक के गोल्ड मेडलिस्ट रवि दहिया बुधवार को अपने गांव नाहरी पहुंचे, जहां उनका भव्य स्वागत किया गया। पूरे विश्व में देश का नाम चमकाने वाले गांव नाहरी के बेटे के स्वागत में आतिशबाजिया की पुष्पवर्षा के साथ गांव की महिलाओं ने नाच – गाने के साथ नीरज का स्वागत किया।

दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम से उनके गांव नाहरी तक गोल्ड मेडलिस्ट रवि दहिया को गुरु महाबली सतपाल के साथ खुली जीप में रोड शो निकालते हुए लाया गया जिसमें हजारों की संख्या में लोग उपस्थित रहे। उन्होंने दिल्ली से बांकनेर तक 25 किलोमीटर का सफर करीब 2 घंटे में तय किया, जबकि बाघ ने उसे अपने गांव नाहरी तक पहुंचने में उन्हें करीब साढ़े तीन घंटे का समय लगा। इस दौरान प्रदेश के सीएम मनोहर लाल ने परवान रवी दहिया को गदा और शॉल भेंट कर सम्मानित किया ।

टोक्यो ओलंपिक के रजत पदक विजेता रवि दहिया के गांव पहुंचने पर भव्य स्वागत, सीएम ने भेंट की गदा व शॉल

पहलवान रवि दहिया सुबह 9:00 बजे दिल्ली के चल स्टेडियम से अपने गुरु महाबली सतपाल के साथ खुली जीप में गांव नाहरी के लिए निकले। इस दौरान दिल्ली में कई जगहों पर उनका शानदार स्वागत किया गया। जिस कारण उन्हें 25 किलोमीटर की दूरी तय करने में पूरे दो घंटो का समय लगा। वे पहले सुबह करीब 11 बजे दिल्ली के गांव बांकनेर पहुंचे, उसके बाद वे अपने गांव नाहरी गए। रजत पदक विजेता पहलवान रवि दहिया के स्वागत में ग्रामीण 200, कार, 500 मोटरसाइकिल तथा ट्रैक्टर व ट्रॉलियां लेकर पहले ही पहुंच गए।

टोक्यो ओलंपिक के रजत पदक विजेता रवि दहिया के गांव पहुंचने पर भव्य स्वागत, सीएम ने भेंट की गदा व शॉल

रवी दहिया के गांव बांकनेर पहुंचते ही गांव में चारों ओर जयकारो की आवाज गूंज उठी। रवि दहिया के स्वागत में पहुंचे ग्रामीण नाचते – गाते, ढोल – थाप व चार डीजे के बजाते हुए गांव पहुंचे। दिल्ली के गांव बांकनेर से अपने गांव नहारी तक 5 किलोमीटर का सफर उन्होंने साडे 3 घंटे में पूरा किया। लगभग 42 स्थानों पर पुष्प वर्षा की गई। रवि दहिया के घर के बाहर भी ग्रामीणों ने उनके स्वागत में जमकर आतिशबाजी की।

गांव के बेटे पहलवान रवि दहिया के सम्मान में ग्रामीणों ने एक स्वागत समारोह का आयोजन किया, जिसमें सीएम मनोहर लाल बाग खेल मंत्री संदीप सिंह भी उपस्थित रहे। सीएम मनोहर लाल खेल मंत्री संदीप सिंह ने मंच पर रवि दहिया उनके गुरु सतपाल पहलवान का अभिनंदन किया। स्वागत समारोह में पहलवान रवी दहिया को गदा व शॉल भेंट कर सम्मानित किया गया।

टोक्यो ओलंपिक के रजत पदक विजेता रवि दहिया के गांव पहुंचने पर भव्य स्वागत, सीएम ने भेंट की गदा व शॉल

पहलवान रवी दहिया के स्वागत समारोह में उनके गांव नाहरी पहुंचे मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गांव में विकास कार्यों को कराए जाने की बात कही। गांव में इनडोर स्टेडियम बनवाने व स्कूलों के हालात सुधारने की बात उन्होंने कही तथा गांव में पुस्तकालय, कम्युनिटी सेंटर खोलने तथा पीएचसी सेंटर को सीएचसी सेंटर मैं तब्दील करने की घोषणा इस कार्यक्रम के दौरान की। साथी बिजली व पेयजल की व्यवस्था को दुरुस्त कराने की बात भी कहीं गई तथा गांव के धार्मिक स्थल दादा शंभू नाथ और एक तालाब का सौंदर्य करण करने की घोषणा भी की।

टोक्यो ओलंपिक के रजत पदक विजेता रवि दहिया के गांव पहुंचने पर भव्य स्वागत, सीएम ने भेंट की गदा व शॉल

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि गांव में 24 घंटे बिजली देने की सुविधा के लिए नई योजना की शुरुआत की है। उन्होंने अपनी घोषणा में बताया कि गांव में बिजली के बिल के बकायेदारों की संख्या 660 है और यदि यह लोग बिजली बिल का भुगतान करते हैं तो इन्हें कोई जुर्माना नहीं भरना होगा। इसके अलावा 12 महीनों की आसान किस्त अभी बनाई जाएंगी। उन्होंने कहा कि जिस पर गांव के लोगों द्वारा 100% बिजली बिलों का भुगतान किया जाएगा उन्हें 24 घंटे बिजली की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...