HomeSpecialमहामारी के दौरान भी नहीं थमा रक्तदान का सिलसिला।

महामारी के दौरान भी नहीं थमा रक्तदान का सिलसिला।

Published on

फरीदाबाद वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण देश और दुनिया में कोहराम मचा हुआ है लेकिन इस बीमारी के दौरान भी हमें अन्य बीमारियों से होने वाले खतरे पर भी ध्यान देना है इसीलिए समाज के कुछ सामाजिक लोगों ने इस भयंकर बीमारी के दौरान भी अपना काम करना नहीं छोड़ा वह इस महामारी में भी थैलेसीमिया जैसी बीमारी से बचाव के लिए रक्तदान शिविर का आयोजन निरंतर अलग-अलग जगहों पर कर रहे हैं।

महामारी के दौरान भी नहीं थमा रक्तदान का सिलसिला।

मारवाड़ी युवा मंच द्वारा शहर में कई इलाकों में रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाता है केवल शहरी नहीं बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी रक्तदान शिविर का आयोजन होता है रक्तदान के बाद लोगों को अपनी अनमोल रक्त की बूंदों को देने के लिए धन्यवाद भी किया जाता है।

संगठन मंत्री विमल खंडेलवाल ने बताया की कोरोना जैसी महामारी के दौरान दे रक्तदान करने वाले लोग एक महान दान कर रहे हैं उन्होंने यह भी कहा की रक्त को कोई भी मशीन नहीं बना सकते इसीलिए रक्त की एक एक बूंद बेहद अनमोल है इसलिए जो भी व्यक्ति रक्तदान करने में सक्षम हो तो वह आगे आकर लोगों की सेवा जरूर करें।

महामारी के दौरान भी नहीं थमा रक्तदान का सिलसिला।

इसी के साथ ही राजकुल सांस्कृतिक संस्था एवं मानव सेवा समिति द्वारा रविवार 14 जून को ही रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया । इनका एक ही नारा था रक्तदान महादान और इसी नारे के साथ उन्होंने अपने इस शिविर को संपूर्ण किया 40 से 45 लोगों ने आकर कैंप में ब्लड डोनेट किया इसी के साथ साथ हमें यह भी बताया गया कि सुरेंद्र जग्गा जोगी सेक्टर 9 के निवासी हैं वह हर बार इस रक्तदान शिविर में आकर रक्त का दान करते हैं।

महामारी के दौरान भी नहीं थमा रक्तदान का सिलसिला।

जग्गा ने कहा कि वह साल में तीन बार रक्त को दान अवश्य करते थे लेकिन जब से उनकी उम्र 55 वर्षीय हो गई है उन्होंने साल में दो बार रक्तदान करने का निर्णय लिया हालांकि उन्होंने बताया कि लगभग 60 बार उन्होंने अपना रक्तदान किया अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि 60 बार रक्तदान यानी कि इतना खून जिसने ना जाने कितने लोगों की जान जाने से बचा लिया। यदि मान कर चलें कि हर बार 1 लीटर खून दिया गया हो तो लगभग 60 लीटर खून उन्होंने सेवा में लगा दिया।

महामारी के दौरान भी नहीं थमा रक्तदान का सिलसिला।

ऐसे लोग जो रक्तदान शिविर का आयोजन करते हैं और ऐसे लोग जो रक्त दान करते हैं इन दोनों की महानता के बारे में जितनी तारीफ करी जाए उतनी कम है और फिर महामारी के दौरान भी थैलेसीमिया से ग्रस्त लोगों को बचाने के लिए रक्तदान शिविर का आयोजन करना बेहद कठिन कार्य हमें ऐसे लोगों का धन्यवाद करना चाहिए और पहचान फरीदाबाद की टीम की ओर से भी इन सभी को शत शत नमन।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...