Homeअफ़ग़ानिस्तान से वापस भारत लौटे दूतावास की सुरक्षा में तैनात कुत्ते, जानिये...

अफ़ग़ानिस्तान से वापस भारत लौटे दूतावास की सुरक्षा में तैनात कुत्ते, जानिये क्या है इनकी खासियत

Published on

अफ़ग़ानिस्तान में आज के समय में किसी भी इंसान के लिए रहना ठीक इसी सामान है कि जैसे सिर पर कफ़न लेकर घूमना। अफगानिस्तान में बिगड़े माहौल के चलते सब-कुछ बर्बाद हो गया है। अफगानिस्तान के काबुल में भारतीय दूतावास की सुरक्षा में तैनात किए गए तीन खोजी कुत्तों, जिनके नाम माया, रूबी और बॉबी हैं, उन्हें भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के 99 जवानों के साथ मंगलवार को भारतीय वायु सेना ने वहां से निकाला।

तालिबान ने पूरे अफगानिस्तान पर कब्जा जमा लिया है। हर तरफ आतंकी दिखाए दे रहे हैं। आईटीबीपी के 99 कमांडो की टुकड़ी के साथ 3 कुत्ते ईंधन भरने के लिए जामनगर एयरबेस पर कुछ देर रुकने के बाद गाजियाबाद के हिंडन आईएएफ बेस पर उतरे। ये तीनों कुत्ते 3 साल तक वहां भारतीय दूतावास की सुरक्षा में तैनात रहे।

अफ़ग़ानिस्तान से वापस भारत लौटे दूतावास की सुरक्षा में तैनात कुत्ते, जानिये क्या है इनकी खासियत

अफगानिस्तान में माहौल खराब के चलते अब अन्य देशों ने वहां से अपना सबकुछ समेटना शुरु कर दिया है। आपको बता दें कि ये तीनों करीब तीन साल से भारत-तिब्बत सीमा पुलिस कमांडो टुकड़ी के साथ थे। इस टुकड़ी के जिम्मे अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में भारतीय दूतावास और इसके राजनयिक स्टाफ की सुरक्षा की जिम्मेदारी थी।

अफ़ग़ानिस्तान से वापस भारत लौटे दूतावास की सुरक्षा में तैनात कुत्ते, जानिये क्या है इनकी खासियत

तीनों कुत्तों की तस्वीरे सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। इन तीनों ने कई बार आईईडी का पता लगाया और न केवल भारतीय राजनयिकों बल्कि दूतावास में कार्य करने वाले स्थानीय अफगानी नागरिकों की भी जान बचाई। इन कुत्तों ने कई बार दूतावास के निकटवर्ति इलाकों में रखे विस्फोटक पदार्थों को पकड़वाया है। तीनों कुत्ते विशेष नस्ल के बताए जा रहे हैं।

अफ़ग़ानिस्तान से वापस भारत लौटे दूतावास की सुरक्षा में तैनात कुत्ते, जानिये क्या है इनकी खासियत

अफगानिस्तान में हालात बेहद ही नाज़ुक हो गए हैं। लोग अपना घर-बार छोड़ कर भाग रहे हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...