Homeमरने के बाद जो काम होता है, बेटों ने मां के जीते...

मरने के बाद जो काम होता है, बेटों ने मां के जीते जी करवा दिया, जानिए क्यों अब लोग कर रहे तारीफ

Published on

मां बाप के बिना जिंदगी अधूरी होती है। मां बाप की सेवा करना सबसे बड़ा फर्ज होता है। बच्चों के लिए उनकी मां ही सबकुछ होती है। वह उनकी इच्छा की पूर्ति के लिए कुछ भी कर सकते हैं। ऐसे में राजस्थान के सीकर जिले के फतेहपुर क्षेत्र के खुड़ी गांव में दो बेटों ने अपनी मां की एक ऐसी इच्छा को पूरा किया जिसे अक्सर मां के मरने के बाद किया जाता है। इन बेटों ने मां की खुशी के लिए उनकी यह इच्छा जीते जी ही पूरी कर दी।

पूरे गांव में बेटों की तारीफ हो रही है। राजस्थान में एक महिला की मूर्ति सुर्खियों में है। जब भी किसी के माता पिता का देहांत होता है तो उनके बेटे घर में उनकी तस्वीर या सामाधि स्थल पर उनकी प्रतिमा स्थापित कर देते हैं। यह कार्य अधिकतर व्यक्ति के मरने के बाद ही किया जाता है। लेकिन सीकर जिले के दो बेटों ने मां के जिंदा होते हुए उनकी मूर्ति बनवा के लगा दी।

मरने के बाद जो काम होता है, बेटों ने मां के जीते जी करवा दिया, जानिए क्यों अब लोग कर रहे तारीफ

महिला जिंदा है और उसके मृत पति के साथ में उसकी मूर्ति लगाई गई है। दिलचस्प बात ये है कि उन्होंने ये पूर्ति मां के कहने पर ही लगाई है। तो आखिर मां ने अपने जिंदा रहते हुए बेटों को अपनी मूर्ति लगवाने के लिए क्यों कहा? सतपाल और महेंद्र दो भाई हैं जो कि सीकर के फतेहपुर क्षेत्र के खुड़ी गांव में रहते हैं। उनके पिता नत्थूराम थालौड़ का निधन दो साल पहले 2019 में हो गया था।

मरने के बाद जो काम होता है, बेटों ने मां के जीते जी करवा दिया, जानिए क्यों अब लोग कर रहे तारीफ

महिला के जीते जी उसकी प्रतिमा लगाने की कहानी बेहद रोचक है। उन्होंने अपने दिवंगत पिता की मूर्ति पहले ही बनवा के स्थापित कर दी थी। इसके बाद उन्होंने अपनी मां की मूर्ति भी पिता की मूर्ति के पास स्थापित कर दी। हालांकि उनकी मां अभी जिंदा है। अब इस जिंदा मां की प्रतिमा को देखने लोग दूर दूर से आ रहे हैं। कोई इस मूर्ति के बारे में जान हैरान हो रहा है तो कोई दोनों बेटों के इस काम की सराहना कर रहा है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...