HomeInternationalडर के साएं में अफगानिस्ता वासी,काबुल एयरपोर्ट पर वतन छोड़ने की राह...

डर के साएं में अफगानिस्ता वासी,काबुल एयरपोर्ट पर वतन छोड़ने की राह निहारते दिखें लाखों लोग

Published on

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद हालात बद से बदतर होते हुए दिखाई दे रहे है, इस बीच बुधवार को लोगों ने वतन वापसी की उम्मीद से 18 अगस्त को होटल छोड़ दिया। काबुल एयरपोर्ट पर अपने वतन लौटने के लिए उमड़ी भीड़ को देखकर हर किसी की भौहें तन गई। वतन वापसी की उम्मीद लिए कम से कम एक लाख से भी अधिक लोग एयरपोर्ट में घुसने की प्रतीक्षा कर रहे थे।

आलम यह था कि किसी भी तरह की क्लीयरेंस न मिलने पर खौफ में ही दिन बिताने पड़े। रविवार (22 अगस्त) को मिलिट्री साइ¨डग से प्रवेश मिला तो जान में जान आ गई। अपना यह अनुभव सोनपित निवास रवि ने संवाददाता संग साझा किया।

डर के साएं में अफगानिस्ता वासी,काबुल एयरपोर्ट पर वतन छोड़ने की राह निहारते दिखें लाखों लोग

उधर, रवि ने बताया कि काबुल एयरपोर्ट पर भारतीय वायुसेना और दूतावास ने दस्तावेज जांचने के बाद खाना भी खिलाया। एयरफोर्स के सी-17 जहाज में 168 लोगों में रवि के अलावा हरियाणा के दो और लोग सवार थे। इनमें फरीदाबाद के सुरजीत सिंह सैनी और पंचकूला निवासी दिनेश शामिल हैं। रवि ने बताया कि तीन माह से जिस खौफ में जी रहे थे, वह रविवार को गाजियाबाद के ¨हडन एयरपोर्ट पर उतरने के साथ ही खत्म हो गया। इन लोगों ने जीवन के 15 साल अफगानिस्तान में बिताए और अब नए सिरे से ¨जदगी और रोजगार को शुरू करना होगा।

डर के साएं में अफगानिस्ता वासी,काबुल एयरपोर्ट पर वतन छोड़ने की राह निहारते दिखें लाखों लोग

अफगानिस्तान में हालातों के बारे में रवि ने बताया कि वहां के नागरिक देश छोड़कर जाना चाहते हैं और एयरपोर्ट की ओर भाग रहे हैं। सड़कों पर तालिबानियों का राज है। वे लोग जब होटल छोड़कर एयरपोर्ट की ओर जा रहे थे तो वाहन में करीब 25 लोग सवार थे। जिस रास्ते से निकले वहां पर तालिबानी लड़ाके हथियार लेकर खड़े थे। हर गाड़ी को जांच रहे थे। उनकी गाड़ी का चालक ही हर बार स्थानीय भाषा में इन तालिबानियों से बातचीत कर रहा था।

डर के साएं में अफगानिस्ता वासी,काबुल एयरपोर्ट पर वतन छोड़ने की राह निहारते दिखें लाखों लोग

हालात ऐसे हैं कि तालिबानियों का खौफ हर किसी के दिल में है। कई अभी भी होटल में रह रहे हैं। उनको यह डर सता रहा है कि यदि बाहर निकले तो तालिबानी मार डालेंगे। हालांकि कई तो हिम्मत कर निकले और भारत पहुंच गए हैं, लेकिन अभी भी कई भारतीय होटलों में ही टिके हैं और हालात सामान्य होने का इंतजार कर रहे हैं।

सोनीपत के रहने वाले रवि ने बताया कि वह अभी दिल्ली में हैं। अफगानिस्तान की एयरलाइंस में सिक्योरिटी डायरेक्टर के पद पर तैनात थे। बताया कि वे लोग किसी तरह होटल छोड़कर गाड़ी में एयरपोर्ट के पास तो पहुंच गए, लेकिन यहां एक लाख से ज्यादा लोग एयरपोर्ट में एंट्री के लिए इंतजार कर रहे थे। कई बार तो हवाई फायर कर लोगों को नियंत्रित करना पड़ा। रविवार को वह भारत पहुंचे, जबकि 20 अफगानी भी उनके साथ वायुसेना के जहाज में आए हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...