HomeUncategorizedयुवती ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, नोटों से भरे बैग को...

युवती ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, नोटों से भरे बैग को पहुंचाया मालिक तक

Published on

बेईमानी के सौ रुपए से ज्यादा ईमानदारी का एक रुपया है। यह कथन हम आज एक ऐसी युवती के लिए कह रहे हैं जिसने ईमानदारी की मिसाल पेश की है। युवती का नाम रीता है और इनके कर्मों से ही इसकी ईमानदारी झलकती है।

बता दें कि रीता अपने कुछ जरुरी काम से मध्यप्रदेश की बस में यात्रा कर रही थी कि अचानक उनकी नजर सीट के पास रखे एक लावारिस बैग पर पड़ी।

युवती ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, नोटों से भरे बैग को पहुंचाया मालिक तक

नोटों से भरा था बैग

जब उन्होंने वह बैग खोला तो उनकी आंखे खुली की खुली रह गईं। बैग ढेर सारे रुपयों से भरा हुआ था जिसे देख वह हैरान रह गईं। अगर रीता जगह कोई और होता तो वह इतने सारे रुपए देख लालची हो जाता और बैग अपने पास रख लेता।

युवती ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, नोटों से भरे बैग को पहुंचाया मालिक तक

पुलिस को किया सूचित

ईमानदार होने के साथ साथ इन्होंने सच्चे नागरिक का फर्ज अदा किया है। उन्होंने यह बैग सीधा साईंखेड़ा थाना के पुलिस को सौंप दिया। पुलिस ने आगे की कार्यवाही करते हुए बैग के मालिक का पता लगाया। जांच में पता चला कि यह बैग एक किसान का था।

युवती ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, नोटों से भरे बैग को पहुंचाया मालिक तक

किसान का था यह बैग

किसान के मेहनत का एक रुपया भी उसके लिए कीमती होता है क्योंकि यह उसकी मेहनत और खून पसीने की कमाई होती है। पुलिस ने जांच पड़ताल में पाया कि यह बैग बिरुल बाजार के रहने वाले एक किसान राजा रमेश साहू का है जो गलती से उस बस में भूल आया था।

ऐसे छूटा था बैग

युवती ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, नोटों से भरे बैग को पहुंचाया मालिक तक

बता दें कि किसान रमेश साहू अपनी गोभी की फसल बेचने के बाद भोपाल लौट रहा था। लौटने के दौरान उन्होंने जिस बैग में पैसे रखे थे वह बस में ही छूट गया था और बैग बाद में रीता को मिला और उसने इसकी सूचना पुलिस को दी।

फिर जांच पड़ताल में बैग के मालिक का पता चल गया और पुलिस ने यह बैग इसके मालिक किसान रमेश साहू को सौंप दिया। इस तरह से रीता ने एक किसान की सालों की जमा पूंजी बचाई।

पहले भी किए हैं ऐसे सराहनीय कार्य

युवती ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, नोटों से भरे बैग को पहुंचाया मालिक तक

आपको बता दें कि रीता ने पहली बार ऐसा कार्य नही किया है बल्कि इससे पहले जब किसी और के पैसे रीता के बैंक अकाउंट में गलती से आ गए थे तब भी रीता ने यह पैसे वापिस कर दिए थे। उस समय रीता के बैंक अकाउंट में किसी और के 42 हजार रुपए ट्रांसफर हो गए थे।

सम्मानित करने की योजना बना रहा है प्रशासन

युवती ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, नोटों से भरे बैग को पहुंचाया मालिक तक

रीता द्वारा लगातार किए जा रहे यह कार्य सराहनीय है। इसके लिए प्रशासन रीता और उसके परिवार वालों को सम्मानित करने की योजना बना रहा है। हर कोई रीता के इस जज्बे को सलाम करता है और यह उम्मीद करता है कि हर कठिन परिस्थिति में वह अपने इस जज्बे को समाप्त नहीं होने देंगी। साथ ही समाज को प्रेरित भी करेंगी।

Latest articles

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...

फरीदाबाद की बेटी ने रचा इतिहास, बोलने और सुनने में नहीं हैं सक्षम, लोगों को चौकाया वकील बनकर

भारत में जहाँ लोग अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात एक...

More like this

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...