Home23 साल बाद पाकिस्तान की जेल से भारत आया शख्स, जानें कैसे...

23 साल बाद पाकिस्तान की जेल से भारत आया शख्स, जानें कैसे फंसा था दुश्मनी मुल्क में

Published on

अपने देश से हर किसी को प्यार होता है। मध्य प्रदेश के सागर जिले के निवासी प्रहलाद राजपूत को नया जीवन मिला है। रोजाना ना जाने कितने लोग लापता होते हैं। इसके बाद वो या तो कभी नहीं मिलते हैं या फिर कितनी बार ऐसा होता है कि वो कुछ समय बात मिल भी जाते हैं, लेकिन मध्य प्रदेश में अपने घर से लापता हुआ एक शख्स सीधे 23 साल बाद अपने परिवार को मिला है।

हर व्यक्ति अपने देश आकर खुशी से झूम उठता है। प्रह्लाद सिंह 23 साल पाकिस्तान की जेल में बिताने के बाद सोमवार को ही अपने घर लौटे हैं। प्रोटोकॉल अधिकारी अरुणपाल सिंह के द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, प्रहलाद पाकिस्तान की जेल में अपनी सजा काटने के बाद पंजाब में अटारी-वाघा बॉर्डर के जरिए भारत लौटे हैं।

23 साल बाद पाकिस्तान की जेल से भारत आया शख्स, जानें कैसे फंसा था दुश्मनी मुल्क में

खुशी तब और अधिक हो जाती है जब कोई व्यक्ति पाकिस्तान की जेल से 23 साल बाद रिहा होकर भारत देश लौटा हो। मध्य प्रदेश से एक पुलिस दल और उसका छोटा भाई वीर सिंह उसे घर लेकर गए। सागर जिले के प्रह्लाद मानसिक रूप से अस्थिर है और जब उनके घर से लापता होने की सूचना मिली थी। उस समय उनकी उम्र 30 साल थी।

23 साल बाद पाकिस्तान की जेल से भारत आया शख्स, जानें कैसे फंसा था दुश्मनी मुल्क में

लोगों का लापता होना आम बात है लेकिन कुछ माह तक उनके न मिलने पर फिर कभी न मिलने का यकीं हो ही जाता है। प्रह्लाद जब अचानक ही घर से लापता हो गया तो किसी को नहीं पता था वो कहा है। कुछ साल बाद अचानक उनके परिवार को एक अखबार के जरिए पता चला कि वो पाकिस्तान में जेल में बंद है। प्रह्लाद के छोटे भाई वीर सिंह ने कहा, हमें नहीं पता कि वो पाकिस्तान कैसे पहुंचे। वो मानसिक रूप से अस्थिर हैं और वो अक्सर बिना बताए घर से निकल जाते थे।

23 साल बाद पाकिस्तान की जेल से भारत आया शख्स, जानें कैसे फंसा था दुश्मनी मुल्क में

1998 में प्रह्लाद बगैर बताए चले गए थे। उस दौरान उनका इलाज चल रहा था, काफी तलाश करने के बाद भी कुछ पता नहीं चल पाया था।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...