Homeहिमाचल की इस झील के अंदर छिपा है बेशुमार खजाना, महाभारत काल...

हिमाचल की इस झील के अंदर छिपा है बेशुमार खजाना, महाभारत काल से जुड़ा है संबंध

Published on

हिमाचल प्रदेश अपने पौराणिक महत्व के साथ-साथ रहस्यों का गढ़ भी माना जाता है। हिमाचल प्रदेश की कमरुनाग झील अपने भीतर कई रहस्य छिपाए हुए है। दुनियाभर से हजारों लोग हर साल बर्फ की चादर से लिपटीं खूबसूरत वादियों को देखने के लिए यहां आते हैं, जो उन्हें एक अलग ही दुनिया में होने का एहसास कराती हैं। कहा जाता है कि इस झील के भीतर अरबों-खरबों रुपयों का खजाना छिपा हुआ है, जिसे कोई भी निकालने की कोशिश नहीं करता है।

नाग पूजा का विधान न केवल हमारे धर्म ग्रंथों में मिलता है। बल्कि पहाड़ी क्षेत्रों में आज भी इसे उत्‍सव के रूप में मनाया जाता है। हिमाचल प्रदेश काफी खूबसूरत जगह है। यहां के पहाड़, पर्वत और बर्फीली वादियां अक्सर पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी रहती हैं।

हिमाचल की इस झील के अंदर छिपा है बेशुमार खजाना, महाभारत काल से जुड़ा है संबंध

हम आपको यहां स्थित एक ऐसी झील के बारे में बताएंगे, जिसमें अरबों-खरबों का खजाना छिपा हुआ है। यहां पर कई ऐसी जगह हैं, जो अपने भीतर ना जाने कितने रहस्यों को दफन किए हुए हैं। ऐतिहासिक दृष्टि से इस स्थान का भारतीय सांस्कृतिक इतिहास में अनूठा योगदान रहा है। हिमाचल प्रदेश में कई जगहों का सीधा संबंध महाभारत काल से जुड़ा हुआ है। इस जगह पर कई ऐसे मंदिर और झीलें हैं, जिनके रहस्यों को अब तक कोई जान नहीं पाया है। इसी में एक नाम आता है हिमाचल प्रदेश के कमरुनाग झील का।

हिमाचल की इस झील के अंदर छिपा है बेशुमार खजाना, महाभारत काल से जुड़ा है संबंध

कई जगहों का सीधा संबंध महाभारत काल से जुड़ा हुआ है। आज तक किसी ने झील से उस खजाने को निकालने का प्रयास तक नहीं किया। इस झील से जुड़ी कई ऐसी रहस्यमय बाते हैं, जिन्हें जानने के बाद आप भी आश्चर्य में पड़ जाएंगे। कमरुनाग झील हिमाचल प्रदेश में स्थित मंडी जिले से करीबन 51 किलोमीटर दूर करसोग घाटी में स्थित है। इस झील का नाम घाटी के देवता कमरुनाग के नाम पर पड़ा। कहा जाता है कि इस झील के भीतर अरबों-खरबों का खजाना छिपा हुआ है, जिसे अब तक किसी ने निकाला नहीं है। झील के भीतर इतनी ज्यादा मात्रा में सोने और चांदी के बर्तन हैं कि कोई उसका अंदाजा भी नहीं लगा सकता।

हिमाचल की इस झील के अंदर छिपा है बेशुमार खजाना, महाभारत काल से जुड़ा है संबंध

झील हिमाचल के मंडी जिले से 51 किलोमीटर की दूरी पर करसोग घाटी में मौजूद है। काफी लंबे समय से लोग सोने और चांदी की बनी महंगी से महंगी प्रतिमाओं को यहां अर्पण करते आ रहें हैं। इस कारण कमरुनाग झील के गर्भ में बेशुमार मात्रा में दौलत इकट्ठी हो गई है। स्थानीय लोगों का कहना है कि चोरों ने कई बार इस झील के भीतर से खजाने को चोरी करने का प्रयास किया, परंतु उनका यह प्रयास हर बार असफल साबित हुआ।

Latest articles

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...

फरीदाबाद की बेटी ने रचा इतिहास, बोलने और सुनने में नहीं हैं सक्षम, लोगों को चौकाया वकील बनकर

भारत में जहाँ लोग अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात एक...

More like this

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...