HomeFaridabadखुशखबरी : जिस पल का था इंतजार आ गई वो घड़ी, इस...

खुशखबरी : जिस पल का था इंतजार आ गई वो घड़ी, इस तारीख से लग रहा है सूरजकुंड मेला दो साल बाद मिली मंजूरी

Published on

पिछले 2 साल से संक्रमण के बढ़ते कदमों के चलते कई ऐसे क्षेत्र थे, जो इस कदर प्रभावित हुए थे कि 2 साल बाद भी उन्हें पटरी पर ला पाना नामुमकिन सा हो गया था। मगर संक्रमण की तीसरी वेब के चलते ही जहां एक तरफ लोगों में जागरूकता देखी गई है

तो वहीं दूसरी तरफ अब सभी क्षेत्रों में भले ही धीमी गति के चलते मगर हर क्षेत्र को एक बार फिर पटरी पर वापस आने की राह सरकार द्वारा दिखाई जा रही है।

इसी कड़ी में जहां बढ़ती वैश्विक महामारी को देखते हुए फरीदाबाद की पहचान कहा जाने वाला अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड मेला करीब दो साल से नही लग रहा था लेकिन पिछले लगभग 2 सालों से फरीदाबाद के सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय हस्तशिल्प मेले को सरकार द्वारा पूरी तरह अवरुद्ध कर दिया गया था।

तो वहीं अब 2 साल बाद सूरजकुंड मेले को सरकार की मंजूरी मिल चुकी है, यानी इस बार सूरजकुंड मेला जहां 2 साल बाद लगेगा तो, वही खास यह होगा कि दर्शकों में दो सालों से जो निराशा थी, वो उत्साह इस बार दुगुना देखने को मिलेगा।

भले ही संक्रमण के चलते महामारी के नियमों का पालन करना होगा, लेकिन खुशखबरी तो यह है कि 2 साल बाद ही सही लेकिन लोग अब सूरजकुंड मेले की वह चहल-पहल और झूले में झूला झूलते हुए वो डर से चीखने वाली चिल्लाहट और अलग अलग कंट्री के परफॉर्मेंस जहां एक तरफ दर्शकों का ध्यान आकर्षित करेंगे तो वहीं दूसरी तरफ इस बार ब्रिटेन कंट्री पाटनर होगा जो कि अपने आप में ही अद्भुत सा महसूस कर आएगा।

जानकारी के मुताबिक फरवरी माह में हर साल लगाए जाने वाले सूरजकुंड मेला आने वाले साल यानी कि 2022 में 4 फरवरी से लेकर 20 फरवरी यानी कि कुल 17 दिनों तक के लिए लगाया जाएगा जिसकी तैयारी दिसंबर महा से ही शुरू हो जाएगी।

हर साल इस मेले को देखने के लिए लाखों की तादाद में दर्शकों की बेरी हाथ है और यहां से यादगार पलों को अपने कैमरे में कैद कर कर सदा के लिए अपने साथ ले जाती हैं।

गौरतलब 2 साल पहले यानी कि साल 2020 में लगने वाले सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय मेले में उजबेगिस्तान अंतरराष्ट्रीय बतौर अंतर्राष्ट्रीय पार्टनर तो तो वहीं राष्ट्रीय राज्य के रूप में हिमाचल प्रदेश की झलक में सैकड़ों लोगों को मनमोहित कर दिया था।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...