HomePoliticsहरियाणा - उत्तर प्रदेश यमुना सीमा विवाद सुलझाने में कहीं प्राकृतिक तो...

हरियाणा – उत्तर प्रदेश यमुना सीमा विवाद सुलझाने में कहीं प्राकृतिक तो कहीं प्रशासनिक कारण आ रहे आड़े

Published on

हरियाणा व उत्तर प्रदेश में यमुना नदी के साथ लगते क्षेत्रों के सीमा विवादों को निपटाने के लिए कहीं प्राकृतिक कारण तो कहीं पर प्रशासनिक कारण रोड़ा बन रहे है। करनाल जिले में यमुना नदी की अत्याधुनिक गहराई के कारण छः पिलर लगाने से लोक निर्माण विभाग ने हाथ खड़े कर दिए हैं।

इसी प्रकार फरीदाबाद में भी यमुना के तेज बहाव के कारण पीडब्ल्यूडी ने 20 पिलर लगाने से साफ इंकार कर दिया है। यमुना हरियाणा-उत्तर प्रदेश दोनों ही प्रदेशों की सीमाओं के बंटवारे का विवाद बन रही है। हरियाणा के छः जिलों में से यमुनानगर ही केवल एक ऐसा जिला है जहां सीमाओं को लेकर कोई विवाद नहीं है।

हरियाणा - उत्तर प्रदेश यमुना सीमा विवाद सुलझाने में कहीं प्राकृतिक तो कहीं प्रशासनिक कारण आ रहे आड़े

हरियाणा व उत्तर प्रदेश के यमुना की सीमा से सटे इलाकों के बीच पिछले पांच दशकों से विवाद चलता आ रहा है। दीक्षित अवॉर्ड के तहत चार दशक पहले दोनों प्रदेशों की सीमाओं पर पिलर लगाए गए थे।कांग्रेस विधायक धर्म सिंह छौक्कर द्वारा विधानसभा के मानसून सत्र में भी यह मामला उठाया था। जिसके जवाब में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा था कि भारतीय सर्वेक्षण विभाग की मदद से सीमा निर्धारण के लिए बाउंड्री पिलर स्थापित किए जाएंगे। हरियाणा व उत्तर प्रदेश दोनों राज्यों द्वारा निशानदेही के लिए सर्वेक्षण विभाग को सहमति पत्र दिए जा चुके हैं।

हरियाणा - उत्तर प्रदेश यमुना सीमा विवाद सुलझाने में कहीं प्राकृतिक तो कहीं प्रशासनिक कारण आ रहे आड़े

उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला का कहना है कि दोनों प्रदेशों के बीच यमुना नदी का 312 किलोमीटर लंबा क्षेत्र है, जिसमें दोनों राज्यों के 230 गांव सीमा विवाद में फंसे हुए हैं। हरियाणा के 102 तथा उत्तर प्रदेश के 132 गांव इनमें शामिल हैं, जिनकी पांच हजार एकड़ भूमि पर विवाद है। यमुना नदी की धारा में बदलाव होने पर प्रत्येक वर्ष के झगड़े होना यहां आम बात है।

हरियाणा - उत्तर प्रदेश यमुना सीमा विवाद सुलझाने में कहीं प्राकृतिक तो कहीं प्रशासनिक कारण आ रहे आड़े

इन्हीं झगड़ों को खत्म करने के लिए यहां पिलर लगवाए जायेंगे। पंजाब इंजीनियरिंग कालेज की ओर से 70 फीट लंबे विशेष आकार के पिलर तैयार कराए गए हैं, जिन्हें 50 फीट नीचे धरती में गाड़ा जाएगा तथा 20 फीट ऊपर रखा जाएगा। इससे यमुना नदी के तेज बहाव में इन पिलरों के बहने का खतरा कम रहेगा।

हरियाणा - उत्तर प्रदेश यमुना सीमा विवाद सुलझाने में कहीं प्राकृतिक तो कहीं प्रशासनिक कारण आ रहे आड़े

बता दें कि सबसे अधिक विवाद पलवल, सोनीपत व पानीपत में होता है। फसलों की कटाई के समय तो खींचतान इतनी अधिक बढ़ जाती है कि दोनों ओर से फायरिंग तक हो जाती है। समस्या का ध्यान रखते हुए भारतीय सर्वेक्षण विभाग की निशानदेही के बाद ऑड – ईवन आधार पर पानीपत में 423, सोनीपत में 347 तथा पलवल में 771 बाउंड्री पिलर स्थापित किए जायेंगे। ऑड – ईवन अर्थात् एक पिलर हरियाणा तो एक उत्तर प्रदेश की ओर से लगाया जाएगा।

Latest articles

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...

फरीदाबाद की बेटी ने रचा इतिहास, बोलने और सुनने में नहीं हैं सक्षम, लोगों को चौकाया वकील बनकर

भारत में जहाँ लोग अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात एक...

More like this

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...