Homeदंगल पड़ गया भारी कुश्ती के दौरान पहलवान की टूटी गर्दन, फिर...

दंगल पड़ गया भारी कुश्ती के दौरान पहलवान की टूटी गर्दन, फिर जो हुआ जाकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे

Published on

दंगल यानि कुश्ती के करोड़ों दीवाने हैं हमारे देश में। इसकी प्रतियोगिता भी होती रहती है। फरीदनगर में आयोजित दंगल एक पहलवान के लिए मौत का अखाड़ा बन गया। जोर-आजमाइश के बीच वह प्रतिद्वंद्वी के दांव-पेच में ऐसा फंसा, गर्दन तुड़वा बैठा। इतना ही नहीं, मदद करने के बजाय प्रतिद्वंद्वी पहलवान ने उसकी गर्दन को दो-तीन बार हिलाकर देखा और पीछे हट गया।

गांव देहात में आज भी दंगल यानि कुश्ती की प्रतियोगिता होती है। लोग ताली बजाते रहे। इस बीच आयोजक और रेफरी मौके पर पहुंच गए। मालिश कर गर्दन जोडऩे की कोशिश की मगर, चोटिल पहलवान की जान नहीं बचाई जा सकी। गांव में पंचायत के बाद 60 हजार रुपये में मौत का सौदा कराकर मामला रफा-दफा करा दिया।

दंगल पड़ गया भारी कुश्ती के दौरान पहलवान की टूटी गर्दन, फिर जो हुआ जाकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे

दूर-दराज गांव से दंगल का लुत्फ उठाने के लिए हजारों की संख्या में लोग जुटते हैं। छह दिन तक पूरा घटनाक्रम राज ही बना रहा लेकिन, वीडियो वायरल होने के बाद दुनिया ने अखाड़े में एक पहलवान की मौत को देखा। दंगल का आयोजन दो सितंबर को हुआ था। ग्रामीणों के मुताबिक, नौमी के मेले में बिना अनुमति के अखाड़ा सजाया गया। इसमें उत्तराखंड के काशीपुर का पहलवान महेश कुमार भी शामिल होने के लिए आए थे। इस दौरान फरीदनगर के पहलवान साजिद अंसारी से महेश का कुश्ती से मुकाबला हुआ।

दंगल पड़ गया भारी कुश्ती के दौरान पहलवान की टूटी गर्दन, फिर जो हुआ जाकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे

बिना अनुमति के यह दंगल आयोजित की गई थी। कुश्ती के दौरान साजिद ने महेश की उठाकर पटका तो वह गर्दन के बल नीचे गिर गए। इससे महेश की गर्दन टूट गई। वहीं जमीन पर गिर तड़पने लगे। उधर, कुश्ती देख रहे लोग साजिद पहलवान की जीत के लिए तालियां बजा रहे थे। थोड़ी देर तड़पने के बाद महेश ने अखाड़े में ही दम तोड़ दिया।

दंगल पड़ गया भारी कुश्ती के दौरान पहलवान की टूटी गर्दन, फिर जो हुआ जाकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे

कई बार दंगल आफत बन जाता है। दंगल के दौरान मरने वाला पहलवान महेश अपने बूढ़े माता पिता का इकलौता बेटा था। आयोजकों ने जब महेश को उठाया तो उसकी गर्दन एक ओर लटक गई। यह देख सभी के होश उड़ गए। कोई उसे इलाज कराने के लिए अस्पताल तक नहीं लेकर गया। पहलवान की मौत के बाद समझौते के प्रयास शुरू हो गए।

Latest articles

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...

फरीदाबाद की बेटी ने रचा इतिहास, बोलने और सुनने में नहीं हैं सक्षम, लोगों को चौकाया वकील बनकर

भारत में जहाँ लोग अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात एक...

More like this

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...