Homeहजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड...

हजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड फॉरेस्ट’

Array

Published on

पर्यावरण आज एक गंभीर मुद्दा बन गया है। हर कोई इसकी चर्चा कर रहा है। लेकिन कम ही लोग हैं जो इसे बचाने का काम कर रहे हैं। इन्हीं में शुमार है इनकी गिनती। पुडुचेरी के प्रमुख कॉलेजों में से एक टैगोर गवर्नमेंट आर्ट्स एंड साइंस कॉलेज ने हरे भरे अभ्यारण्य को बनाकर एक उदाहरण पेश किया है। यह कारनामा परिसर की 13 एकड़ जमीन पर हुआ है।

दोस्तों या करीबियों के साथ समय बिताना हो तो अक्सर हम कोई पार्क या हरी-भरी जगह ही तलाशते हैं। यह हरियाली कई जगहों पर समाप्त हो रही है। कॉलेज की स्थापना 1961 में लासपेट में हुई थी और यह पांडिचेरी विश्वविद्यालय से संबद्ध है, जोकि भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के तहत एक केंद्रीय विश्वविद्यालय है। कॉलेज में कला, कॉमर्स और साइंस के तमाम विषयों में पाठ्यक्रम प्रदान करता है।

हजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड फॉरेस्ट’

हरियाली से भरी जगह पर सुकून मिलता है। हमारे आसपास ज्यादातर घने छायादार पेड़ बहुत पुराने हैं। टैगोर गवर्नमेंट आर्ट्स एंड साइंस कॉलेज के प्राचार्य शशि कांता दास ने शिक्षा के लिए पर्यावरण के महत्व पर जोर दिया और कहा कि परिसर में एक वेजिटेबल गार्डन भी बनाएया गया है। दास ने कहा, ‘पोस्टर सरकारी कॉलेज की परिधि की दीवार पर चिपकाए गए थे। कोई पेड़ नहीं थे। हमने फिर इसे एक हरे रंग के परिसर में बदलने का फैसला किया। सबसे पहले, हमने परिसर में पोस्टर हटाया और दीवारों की सफाई की।

हजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड फॉरेस्ट’

शशिकांत कॉलेज के प्रिंसिपल हैं। 20 वर्षों से भी ज्यादा समय से शिक्षा क्षेत्र में अपनी सेवाएं दे रहे शशिकांत की एक और पहचान है और वह है ‘ग्रीन मैन’ के रूप में। उन्होंने कहा, ‘शिक्षा के लिए पर्यावरण महत्वपूर्ण है इसलिए हमने पेड़ लगाना शुरू किया। विशेष रूप से हमने ताड़, नारियल, सपोडिला, जैक और केला जैसे कई तरह के पेड़ लगाए हैं। कुल मिलाकर हमने 3,000 पेड़ आठ एकड़ में लगाए हैं।’ दास ने कहा कि छात्रों को पौष्टिक भोजन भी मिलता है क्योंकि कॉलेज कैंटीन बगीचे से ताजी सब्जियों का उपयोग करता है।

हजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड फॉरेस्ट’

बचपन से ही हरियाली के बीच पले-बढ़े शशिकांत को बंजर और सूखी जगहें रास नहीं आती हैं। शशि कांता दास ने कहा, ‘अब हमारे पास एक सब्जी का बगीचा भी है। हम सब्जी के बगीचे से कैंटीन में फूड आइट्स लाते हैं।

Latest articles

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

Haryana के इस शख्स ने किया Bollywood के सुपरस्टार ऋतिक रोशन के साथ काम, इससे पहले भी कर चुके है कई फिल्मों में काम

प्रदेश के युवा या बुजुर्ग सिर्फ़ खेल या शिक्षा के मैदान में ही तरक्की...

More like this

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...