Homeहजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड...

हजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड फॉरेस्ट’

Published on

पर्यावरण आज एक गंभीर मुद्दा बन गया है। हर कोई इसकी चर्चा कर रहा है। लेकिन कम ही लोग हैं जो इसे बचाने का काम कर रहे हैं। इन्हीं में शुमार है इनकी गिनती। पुडुचेरी के प्रमुख कॉलेजों में से एक टैगोर गवर्नमेंट आर्ट्स एंड साइंस कॉलेज ने हरे भरे अभ्यारण्य को बनाकर एक उदाहरण पेश किया है। यह कारनामा परिसर की 13 एकड़ जमीन पर हुआ है।

दोस्तों या करीबियों के साथ समय बिताना हो तो अक्सर हम कोई पार्क या हरी-भरी जगह ही तलाशते हैं। यह हरियाली कई जगहों पर समाप्त हो रही है। कॉलेज की स्थापना 1961 में लासपेट में हुई थी और यह पांडिचेरी विश्वविद्यालय से संबद्ध है, जोकि भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के तहत एक केंद्रीय विश्वविद्यालय है। कॉलेज में कला, कॉमर्स और साइंस के तमाम विषयों में पाठ्यक्रम प्रदान करता है।

हजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड फॉरेस्ट’

हरियाली से भरी जगह पर सुकून मिलता है। हमारे आसपास ज्यादातर घने छायादार पेड़ बहुत पुराने हैं। टैगोर गवर्नमेंट आर्ट्स एंड साइंस कॉलेज के प्राचार्य शशि कांता दास ने शिक्षा के लिए पर्यावरण के महत्व पर जोर दिया और कहा कि परिसर में एक वेजिटेबल गार्डन भी बनाएया गया है। दास ने कहा, ‘पोस्टर सरकारी कॉलेज की परिधि की दीवार पर चिपकाए गए थे। कोई पेड़ नहीं थे। हमने फिर इसे एक हरे रंग के परिसर में बदलने का फैसला किया। सबसे पहले, हमने परिसर में पोस्टर हटाया और दीवारों की सफाई की।

हजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड फॉरेस्ट’

शशिकांत कॉलेज के प्रिंसिपल हैं। 20 वर्षों से भी ज्यादा समय से शिक्षा क्षेत्र में अपनी सेवाएं दे रहे शशिकांत की एक और पहचान है और वह है ‘ग्रीन मैन’ के रूप में। उन्होंने कहा, ‘शिक्षा के लिए पर्यावरण महत्वपूर्ण है इसलिए हमने पेड़ लगाना शुरू किया। विशेष रूप से हमने ताड़, नारियल, सपोडिला, जैक और केला जैसे कई तरह के पेड़ लगाए हैं। कुल मिलाकर हमने 3,000 पेड़ आठ एकड़ में लगाए हैं।’ दास ने कहा कि छात्रों को पौष्टिक भोजन भी मिलता है क्योंकि कॉलेज कैंटीन बगीचे से ताजी सब्जियों का उपयोग करता है।

हजारों पेड़-पौधे लगाकर, इस प्रिंसिपल ने बंजर जमीन को बना दिया ‘फ़ूड फॉरेस्ट’

बचपन से ही हरियाली के बीच पले-बढ़े शशिकांत को बंजर और सूखी जगहें रास नहीं आती हैं। शशि कांता दास ने कहा, ‘अब हमारे पास एक सब्जी का बगीचा भी है। हम सब्जी के बगीचे से कैंटीन में फूड आइट्स लाते हैं।

Latest articles

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...

फरीदाबाद की बेटी ने रचा इतिहास, बोलने और सुनने में नहीं हैं सक्षम, लोगों को चौकाया वकील बनकर

भारत में जहाँ लोग अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात एक...

More like this

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...