Home21 वीं सदी बेबस भरी? 70 साल का बुजुर्ग, बीमार पत्नी को...

21 वीं सदी बेबस भरी? 70 साल का बुजुर्ग, बीमार पत्नी को कंधे लेकर चला 4 KM, जो आगे हुआ जानकार आंसू आ जाएंगे

Array

Published on

देश को आजाद हुए 75 साल हो गए हैं लेकिन अभी भी लोग बेबस हैं। शहरों के साथ-साथ लगभग सभी गांव में भी यातायात के साधन उपलब्ध हैं। पहले के जमाने में जहां थोड़ा सा सफर तय करने में घंटों लग जाते थे वही आज संसाधनों की उपलब्धता के चलते यह सफर कुछ मिनटों में ही पूरा हो जाता है। लेकिन आज भी कुछ लोग ऐसे हैं जो संसाधनों के अभाव में जी रहे हैं और इसके चलते उन्हें बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है ,

70 साल का बुजुर्ग पुरुष अपनी बीमार पत्नी को कंधे पर उठाया और 4 किलोमीटर तक पैदल चला। आज भी भारत में कई इलाके इतने पिछड़े हैं कि यहां मूलभूत सुविधाओं तक लोगों की पहुंच नहीं है।

21 वीं सदी बेबस भरी? 70 साल का बुजुर्ग, बीमार पत्नी को कंधे लेकर चला 4 KM, जो आगे हुआ जानकार आंसू आ जाएंगे

70 साल के अदल्या पाडवी की 65 साल की पत्नी सिदलीबाई की तबियत बहुत खराब हो गई। पत्नी की तबीयत खराब हो जाने पर उसको अपने गांव से मुख्य अस्पताल में ले जाने के लिए कोई साधन न होने के कारण कंधे पर ही 4 किलोमीटर तक पैदल चला परंतु अस्पताल पहुंचने से पहले ही बीच रास्ते में उसकी पत्नी ने दम तोड़ दिया।

21 वीं सदी बेबस भरी? 70 साल का बुजुर्ग, बीमार पत्नी को कंधे लेकर चला 4 KM, जो आगे हुआ जानकार आंसू आ जाएंगे

आज के आधुनिक युग के जमाने में ऐसी खबर सुनाई देना बहुत ही निंदनीय और दुखद है। यह घटना महाराष्ट्र के नंदूरबार जिले के चांदसैली गांव की है। इस घटना को सुनकर हर किसी का दिल बेहद दुखी हो रहा है। अपने गांव में रहने वाले 70 साल के अदल्या पाड़वी भी की पत्नी सिदली बाई की तबीयत खराब हो गई। इसके बाद जब वह अस्पताल ले जाने लगा तो काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। बारिश और भूस्खलन के चलते हैं सारे रास्ते बंद हो गए थे जिसके बाद बुजुर्ग ने अपनी पत्नी को कंधे पर उठाया और पैदल ही हॉस्पिटल के लिए निकल पड़ा।

21 वीं सदी बेबस भरी? 70 साल का बुजुर्ग, बीमार पत्नी को कंधे लेकर चला 4 KM, जो आगे हुआ जानकार आंसू आ जाएंगे

गांव तक कोई गाड़ी नहीं आ सकती थी और पत्नी की हालत लगातार गंभीर होती जा रही थी। बारिश और भूस्खलन के कारण गांव में कोई भी गाड़ी नहीं आ सकती थी और अपनी पत्नी की हालत बेहद गंभीर देख कर बुजुर्ग ने पैदल जाना ही मुनासिब समझा और अपनी पत्नी को अपने कंधों पर उठा लिया। 70 वर्ष की उम्र होने के कारण शरीर काफी कमजोर हो चुका था और हड्डियां बार बार जवाब दे रही थी इसलिए रास्ते में काफी बार पत्नी को नीचे बैठाना पड़ा।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...