Homeएक शादी ऐसी भी : दूल्हा एक और दुल्हन थी दो, फिर...

एक शादी ऐसी भी : दूल्हा एक और दुल्हन थी दो, फिर टॉस से हुआ विजेता का फैसला

Array

Published on

शादी को लेकर कई बार आपने ऐसे किस्से सुने होंगे जिसको सुनकर आपको अजीब लगा होगा। आपने क्रिकेट मैच में पहले बल्लेबाजी के लिए टॉस होते देखा होगा, लेकिन अगर दूल्हे के लिए टॉस हो तो इसे आप क्या कहेंगे। शादी से पहले घर वालों की मर्जी और लड़के-लड़की की सहमति जरूरी है लेकिन कर्नाटक में टॉस के जरिए एक शादी तय की गई।

एक युवक को दो लड़कियों से अफेयर के चलते शादी से पहले कठिनाई का सामना करना पड़ा। युवक को 2 लड़कियों से अफेयर के चलते शादी से पहले परेशानी का सामना करना पड़ा। शादी से ठीक पहले दोनों लड़कियां पहुंच गईं और शादी करने पर अड़ गईं। गांव वालों इसका फैसला करने के लिए टॉस का सहारा लिया।

एक शादी ऐसी भी : दूल्हा एक और दुल्हन थी दो, फिर टॉस से हुआ विजेता का फैसला

शादी से ठीक पहले दोनों लड़कियां पहुंच गईं और अपनी-अपनी मांग पर अड़ गईं। युवतियां इस बात को लेकर अड़ गईं कि युवक की शादी होगी तो सिर्फ उससे ही। गांववालों ने काफी समझाइश दी, लेकिन दोनों में से कोई भी मानने को तैयार नहीं। यहां तक कि एक युवती ने तो आत्महत्या की कोशिश तक की। आखिरकार गांव वाले एक बार फिर जुटे और आखिर में वे इस फैसले पर पहुंचे कि दूल्हा किस युवती का होगा यह फैसला अब टॉस से होगा।

एक शादी ऐसी भी : दूल्हा एक और दुल्हन थी दो, फिर टॉस से हुआ विजेता का फैसला

परेशान होकर और समस्या का हल निकालने के लिए गांव वालों ने इस समस्या का हल निकालने के लिए टॉस का सहारा लिया। टॉस से पहले यह भी शर्त रखी गई कि पहले एक बॉन्ड पेपर पर तीनों लोगों को हस्ताक्षर करने होंगे और जो भी फैसला होगा उसे मानना पड़ेगा। सारी प्रक्रिया के बाद जब बारी टॉस की आई तो अब तक खामोश युवक ने अपनी इच्छा जाहिर कर दी।

एक शादी ऐसी भी : दूल्हा एक और दुल्हन थी दो, फिर टॉस से हुआ विजेता का फैसला

शादी से ठीक पहले दोनों ही लड़कियां लड़के घर जा पहुंचीं। दोनों लड़कियां इस बात को लेकर झगड़ रही थी कि युवक शादी करेगा तो सिर्फ हमसे। गांव वालों ने काफी समझाने की कोशिश की लेकिन दोनों में से कोई भी मानने को तैयार नहीं। यहां तक कि एक युवती ने तो आत्महत्या का प्रयास भी किया। आखिरकार गांव वाले एक बार फिर जुटे और आखिर में वो इस निर्णय पर पहुंचे कि दूल्हा किस युवती का होगा ये फैसला अब टॉस से होगा।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...