Homeशादी के 9 दिन बाद हुई पति की हत्या, जिसपर था शक...

शादी के 9 दिन बाद हुई पति की हत्या, जिसपर था शक उसी के खिलाफ चुनाव लड़ विधायक बनी महिला

Array

Published on

भारत में राजनीतिक हत्याएं होना आम बात है। शायद ही कोई ऐसा राज्य होगा जहां राजनितिक हत्याएं नहीं होती होंगी। कुछ मामले ऐसे होते हैं जो सालों तक याद रहते हैं। ऐसे ही दिन था 25 जनवरी 2005। दोपहर करीब तीन बजे थे। बसपा विधायक राजू पाल पोस्टमार्टम हाउस में कुछ लोगों से मिलकर नीवां लौट रहे थे। उसी दौरान नेहरू पार्क मोड़ से आगे अमितदीप मोटर्स के पास उनके काफिले की स्कार्पियो और क्वालिस गाड़ी को घेरकर शूटरों ने ताबड़तोड़ फायर किए।

वो नज़ारा ऐसा था कि जिसने भी देखा वो खामोश हो गया। उस समय खुद क्वालिस ड्राइïव कर रहे राजू पाल को सीट पर ही गोलियों से छलनी कर दिया गया था। उनके साथ देवीलाल पाल और संदीप यादव भी मारे गए थे। रुखसाना समेत कई लोग घायल हुए।

शादी के 9 दिन बाद हुई पति की हत्या, जिसपर था शक उसी के खिलाफ चुनाव लड़ विधायक बनी महिला

इतना ही नहीं बल्कि बदले की राजनीती ऐसी थी कि ह्त्या जिस प्रकार से की गयी उससे पूरा शहर जल उठा था। चुनाव लड़ने के पहले भी राजू पाल के ऊपर एक बार जान लेवा हमला हुआ था। हमले में घायल राजू पाल की आंत को काट कर छोटा करना पड़ा था। काफी दिन तक एक निजी हॉस्पिटल में राजू पाल भर्ती थे। उसी हॉस्‍पिटल में पूजा पाल पोछा लगाने का काम करती थीं।

शादी के 9 दिन बाद हुई पति की हत्या, जिसपर था शक उसी के खिलाफ चुनाव लड़ विधायक बनी महिला

राजू पाल समेत तीन लोगों की हत्या को 15 साल से अधिक समय गुजर गया है। पूजा और राजूपाल में निकटता काफी बढ़ गई थी। एमएलए बनने के बाद लगातार हो रहे हमले को देखते हुए राजू ने पूजा पाल से शादी का फैसला किया। 17 जनवरी 2005 को राजू ने पूजा से शादी कर ली। 9 दिन के वैवाहिक जीवन के बाद ही 25 जनवरी 2005 राजू की हत्‍या हो गई और पूजा पाल विधवा हो गईं।

ऐसा पहली बार नहीं हो रहा था कि अपने राजनितिक लाभ के लिए किसी की हत्या की जा रही हो। राजू पाल की पत्नी पूजा पाल ने तत्कालीन फूलपुर सांसद अतीक अहमद, उनके भाई अशरफ, फरहान, आबिद, रंजीत पाल, गुफरान समेत नौ लोगों के खिलाफ हत्या, आपराधिक साजिश, बलवा, हत्या की कोशिश का केस धूमनगंज थाने में दर्ज कराया था।

शादी के 9 दिन बाद हुई पति की हत्या, जिसपर था शक उसी के खिलाफ चुनाव लड़ विधायक बनी महिला

शादी के 9 दिन बाद ही पूजा को विधवा देख मायावती काफी दुखी हुईं। राजू पाल की मौत के बाद 2007 के विधानसभा चुनाव में बसपा सुप्रीमो ने पूजा पाल को टिकट दिया। पूजा इलाहाबाद पश्चिमी सीट से अतीक के भाई अशरफ को हराकर विधायक बनीं। 2012 में फिर बसपा के टिकट पर चुनाव लड़कर विधानसभा पहुंचीं।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...