HomeFaridabadमां के प्यार पर भारी पड़ा देश का प्यार देश के लिए...

मां के प्यार पर भारी पड़ा देश का प्यार देश के लिए गोल्ड मेडल जीतकर घर लौटा तो….

Published on

हरियाणा के विशाल के बॉक्सर अकाश कुमार जब नेशनल बॉक्सिंग चैंपियन के लिए कर्नाटक जा रहे थे तो अपनी मां से वादा कर करने के लिए थैंक यू उनके लिए गोल्ड मेडल जीतकर जरूर लेकर आएंगे। 1 हफ्ते तक इस चैंपियनशिप में आकाश नहीं कई बड़ेन दिग्गजों को मार देकर गोल्ड जीता और अगले महीने होने वाली वर्ल्ड चैंपियन के लिए भी अपनी जगह पक्की कर ली। आकाश कुमार ने अपनी मां का सपना का पूरा कर दिया लेकिन यह खुशी उनके साथ बांट नहीं पाए।

मां के प्यार पर भारी पड़ा देश का प्यार देश के लिए गोल्ड मेडल जीतकर घर लौटा तो....

आकाश जब बेल्लारी से लंबे सफर के बाद भिवानी अपने गांव वापस पहुंचे तो उन्हें पता चला कि उनकी मां दुनिया में नहीं रही है और साथ ही उनकी मां ने उनका साथ छोड़ दिया है आकाश अपनी मां का सपना पूरे करें इस वजह से उनके परिवार वालों ने भी उनको यह बात ना बताने का फैसला किया जब चैंपियनशिप में हिस्सा ले रहे थे तो उनके कोच और परिवार वालों के बीच इस बात का ख्याल ध्यान रखा गया था कि उन्हें अपनी मां की मृत्यु के बारे में ना पता चले साथ ही वह अपने चैंपियनशिप पर ही पूरा ध्यान रखें

इस सदमे को बर्दाश्त करना आकाश के लिए काफी मुश्किल हो रहा है। इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते समय, उन्होंने बताया कि कल मैं सबको अपना मेडल दिखा रहा था, साथ ही बहुत खुश भी था ,सोच रहा था कि मां को मेडल दिखाकर और ज्यादा खुश कर दूंगा और आखरी बार मेरी उनसे बात हुई तो मैंने उन्हें वादा किया था, कि मैं गोल्ड मेडल जीतकर ही वापस आऊंगा जब मैं मेडल के साथ यहां घर पहुंचा तो सारे रिश्तेदार वहां मौजूद थे किसी ने कुछ नहीं कहा बस मैंने अपनी मां की तस्वीर देखी ली।

मां के प्यार पर भारी पड़ा देश का प्यार देश के लिए गोल्ड मेडल जीतकर घर लौटा तो....

साथ ही कोच ने भी आकाश को इस खबर से दूर रखा क्योंकि आकाश की मां की मौत के बाद उसके चाचा भरत सिंह ने उसके कोच नरेंद्र राणा को फोन किया, उन्होंने मां के बारे में बताया ,साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आकाश को इस बारे में कुछ ना बताया जाए, वह जानते थे कि ऐसा होगा तो अकाश सब कुछ छोड़ कर घर वापस लौट आएगा उनके कोच में आकाश के साथ-साथ पूरी टीम का फोन भी अपने पास रख लिया क्योंकि वे नहीं चाहते थे कि सोशल मीडिया या फोन से इस बात की जानकारी आकाश तक पहुंचे।

मां के प्यार पर भारी पड़ा देश का प्यार देश के लिए गोल्ड मेडल जीतकर घर लौटा तो....

हम सब कुछ है साथ ही वह गोल्ड मेडल भी अपने और अपने मां के सपने को पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे थे। हालांकि एक आरोप में उन्हें जेल में भी डाल दिया गया था। ऐसे में आकाश पर काफी दबाव था लेकिन उसके बावजूद भी आकाश अपने खेल पर ही ध्यान दे।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...