Homeफुटपाथ पर रहने से लेकर मुंबई में अपना घर होने तक, इस...

फुटपाथ पर रहने से लेकर मुंबई में अपना घर होने तक, इस युवती के लिए किसी सपने के सच होने जैसा है

Published on

दुनियाभर के करोड़ों लोगों की जिंदगी पर महामारी का बुरा असर पड़ा। महाराष्ट्र में मुंबई के आजाद मैदान के बाहर फुटपाथ पर रहने वाली 17 साल की लड़की अस्मा शेख ने 10वीं की बोर्ड परीक्षा में 40 फीसद अंक हासिल किए थे। में फुटपाथ पर रहने वाली 17 साल की आसमा शेख ने एक दिन अपने घर का सपना देखा था।

उसका सपना सच हो गया। कई लोग महामारी की वजह से अपने पैसे कमाने के जरिए को खो चुके तो कई लोगों ने अपने परिवार को खोया। जब वह और उसका परिवार मोहम्मद अली रोड पर 1 बीएचके अपार्टमेंट में चले गए, जहां वे अगले तीन साल तक रहेंगे। अस्मा की कहानी से प्रेरित होकर, विदेश में रहने वाले लोगों के एक समूह ने कॉलेज में स्नातक होने तक अपार्टमेंट के किराए का भुगतान करने के लिए धन जुटाया।

फुटपाथ पर रहने से लेकर मुंबई में अपना घर होने तक, इस युवती के लिए किसी सपने के सच होने जैसा है

महामारी की वजह से ही मुंबई की अस्मा शेख के पिता को भी आर्थिक मंदी जैसी समस्या से जूझना पड़ा। उनकी कहानी ने पहली बार 2020 में ध्यान आकर्षित किया, जब उसने दक्षिण मुंबई में फुटपाथ पर रहते हुए और रात में स्ट्रीट लाइट के नीचे पढ़ाई करते हुए अपनी कक्षा 10 की परीक्षा पास की। उसके पिता, सलीम शेख, उसी फुटपाथ पर जूस बेचकर अपना घर चलाते थे, लेकिन लॉकडाउन से उनका व्यवसाय बुरी तरह प्रभावित हुआ।

फुटपाथ पर रहने से लेकर मुंबई में अपना घर होने तक, इस युवती के लिए किसी सपने के सच होने जैसा है

पिता मुंबई में एक जूस की दुकान चलाते थे लेकिन कोरोना के कहर के चलते वो भी बंद हो गई और यह परिवार सड़क पर आ गया। उन्होंने अपनी बेटी के लिए महसूस किए गए गर्व के बारे में बात की, जिसने एसएससी परीक्षाओं में 40% स्कोर करने के बाद केसी कॉलेज में दाखिला लिया। अस्मा शेख ने , “मैं स्नातक करना चाहती हूं.” उसने कहा, “मैं पढ़ना चाहती हूं ताकि मैं एक घर खरीद सकूं. मैं अपने परिवार को इस फुटपाथ से दूर ले जाना चाहती हूं।

फुटपाथ पर रहने से लेकर मुंबई में अपना घर होने तक, इस युवती के लिए किसी सपने के सच होने जैसा है

17 साल की अस्मा शेख अपने परिवार के साथ फुटपाथ के किनारे झोपड़ी बनाकर रहने लगी। आसमा की कहानी ने हजारों लोगों को छुआ और दृढ़ संकल्प छात्र के लिए मदद की पेशकश की।

Latest articles

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...

फरीदाबाद की बेटी ने रचा इतिहास, बोलने और सुनने में नहीं हैं सक्षम, लोगों को चौकाया वकील बनकर

भारत में जहाँ लोग अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात एक...

More like this

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...