HomeUncategorizedइस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों...

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

Published on

देश के बड़े–बड़े शहरों में गैस डिस्ट्रीब्यूशन करने वाली कंपनी इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड (IGL) के अनुसार, नेचुरल गैस की कीमतों में 62 फीसदी तक बढ़ोत्तरी होने की वजह से CNG और PNG के दामों में भी वृद्धि हुई है। साल 2012 के बाद CNG की कीमतों में सबसे बड़ी बढ़ोत्तरी हुई है।

शनिवार से दिल्ली में सीएनजी की कीमत में 2.28 रुपये प्रति किग्रा जबकि नोएडा, गाजियाबाद और ग्रेटर नोएडा में 2.55 रुपये प्रति किग्रा की बढ़ोत्तरी हो गई। वहीं, लोगों के घर तक पाइप के जरिए पहुंचने वाली पीएनजी के दाम 2.10 रुपये प्रति घन मीटर बढ़ाए गए हैं।

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

हर छः महीने में तय होती है कीमतें

आपको बता दें कि हर छः महीने में सरकार नेचुरल गैस की कीमतें तय करती है। इस बार कीमतों में बढ़ोत्तरी हुई है। जबकि इससे पहले 1 अप्रैल को सितंबर तक के लिए घरेलू प्राकृतिक गैस का दाम 1.79 डॉलर प्रति mBtu पर जस का तस रखा गया था।

नेचुरल गैस का CNG और PNG से कनेक्शन

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

सीएनजी की फुल फॉर्म Compressed Natural Gas होती है। इसी गैस को कंप्रेस कर गाड़ी के सिलेंडर में भरा जाता है। इसीलिए इसे कंप्रेस्ड नेचुरल गैस कहते है। वहीं, PNG की फुल फॉर्म Pipe Natural Gas होती है। जब यह गैस पाइप के जरिए आपके घर तक पहुंचती है तो ये PNG यानी Pipe Natural Gas हो जाती है।

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

ईंधन से अधिक सुरक्षित है यह गैस

यह गैस हवा से भी हल्की होती है तथा यह ईंधन की तुलना में अधिक सुरक्षित मानी जाती है। सीएनजी पेट्रोल की तुलना में CO2, CO, NOx के रूप में कम पॉल्युशन फैलाती है।

बता दें कि सीएनजी वाहनों का प्रयोग सबसे पहले अमेरिका में हुआ था। दूसरे विश्व युद्ध के बाद, इटली और अन्य यूरोपीय देशों ने भी सीएनजी को प्राथमिक ईंधन के रूप में स्वीकार किया।

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

जानें, अपने शहर में CNG के नए दाम

शहर नए रेट्स

दिल्ली 47.48 रुपये प्रति किग्रा
नोएडा 53.45 रुपये प्रति किग्रा
गाजियाबाद 53.45 रुपये प्रति किग्रा
करनाल 54.70 रुपये प्रति किग्रा
कैथल 54.70 रुपये प्रति किग्रा
गुरुग्राम 55.81 रुपये प्रति किग्रा
रेवाड़ी 56.50 रुपये प्रति किग्रा
मुजफ्फरनगर 60.71 रुपये प्रति किग्रा
मेरठ 60.71 रुपये प्रति किग्रा
शामली 60.71 रुपये प्रति किग्रा
कानपुर 63.97 रुपये प्रति किग्रा
फतेहपुर 63.97 रुपये प्रति किग्रा
हमीरपुर 63.97 रुपये प्रति किग्रा

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

CNG के महंगे होने का कारण

एक्सपर्ट्स की मानें तो सरकार ने नेचुरल गैस की कीमत में करीब 62 फीसदी की बढ़ोतरी की है। इसके बाद से यह तय माना जा रहा है कि गैस डिस्ट्रीब्यूशन कंपनियां CNG और PNG के दाम बढ़ाएंगी।

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय बाजारों में कच्चे तेल के बाद नेचुरल गैस के दाम नए शिखर पर पहुंच गए हैं। इसीलिए घरेलू बाजार में कीमतें बढ़ गई है। सरकार हर छह महीने में गैस की कीमतों की समीक्षा कर दाम तय करती है।

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

सरकार ने अक्टूबर 2021 से मार्च 2022 तक के लिए घरेलू नेचुरल गैस की कीमतों को बढ़ाकर 2.90 डॉलर प्रति मिलियन ब्रिटिश थर्मल यूनिट (mBtu) कर दिया है। वहीं गहरे समुद्र और अत्याधिक दबाव के साथ-साथ अत्याधिक तापमान जैसी जगहों से बेहद कठिनाई से निकाली जाने वाली नेचुरल गैस की कीमत को 6.13 प्रति मिलियन ब्रिटिश थर्मल यूनिट (mBtu) कर दिया है।

पीएनजी गैस हुई महंगी

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

शहर नए दाम
दिल्ली 33.01 रुपये/घन मीटर
नोएडा 32.86 रुपये/घन मीटर
गाजियाबाद 32.86 रुपये/घन मीटर

गैस के अलावा यह चीजें हो सकती हैं महंगी

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

नेचुरल गैस के दाम बढ़ने से फर्टिलाइजर यानी खाद बनाने वाली कंपनियों की लागत भी बढ़ सकती है। क्योंकि खाद बनाने में यह कंपनियां नेचुरल गैस का प्रयोग करती है। हालांकि, सरकार इसके लिए सब्सिडी भी देती है इसलिए इसके दाम में बढ़ोतरी होने के आसार नहीं हैं।

वहीं, गैस से पैदा होने वाली बिजली का खर्च भी बढ़ सकता है, लेकिन उपभोक्ताओं को इससे कोई परेशानी नहीं होगी क्योंकि कुल उत्पादन में इसका हिस्सा बेहद कम है।

इस कारण नौ साल बाद इतना महंगा हुआ नेचुरल गैस, इन चीजों में भी हो सकता है इज़ाफा, जानें अपने शहर का हाल

दाम बढ़ने से किसका होगा फायदा?

नेचुरल गैस के दाम में बढ़ोतरी होने से रिलायंस, ओएनजीसी (ONGC) और ऑयल इंडिया जैसी सरकारी कंपनियों को फायदा होता है। क्योंकि ये कंपनियां नेचुरल गैस निकालकर इसे बेचती है।

Latest articles

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...

फरीदाबाद की बेटी ने रचा इतिहास, बोलने और सुनने में नहीं हैं सक्षम, लोगों को चौकाया वकील बनकर

भारत में जहाँ लोग अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात एक...

More like this

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...