Homeताकत के लिए ये दवाई पीता था एथलीट, गलकर गिर गया जबड़ा,...

ताकत के लिए ये दवाई पीता था एथलीट, गलकर गिर गया जबड़ा, हुआ ये दिल दहला देने वाला हाल

Array

Published on

स्पोर्ट्समैन के लिए फिट रहना सबसे जरुरी है। फिटनेस काफी ज़रूरी है। अमेरिका के एबेनेजर मैकबर्नी बयेर्स दुनिया के बेहतरीन एथलीटों में शुमार रहे थे, लेकिन एक गलती न सिर्फ उनके करियर को ले डूबी, बल्कि उनकी मौत का कारण भी साबित हुई। एबेनेजर एक बेहतरीन स्पोर्ट्सपर्सन थे, लेकिन एक दवाई के कारण उनका जबड़ा गलकर गिर गया।

एक खिलाड़ी अगर बीमार है तो वो स्पोर्ट्स में ध्यान नहीं दे पाता है। उनके करियर भी समाप्त हो जाते हैं। 1927 में एबेनेजर चोट से जूझ रहे थे, जिसके बाद डॉक्टर्स ने उन्हें रैडिटौर प्रिस्क्राइब किया था। इस दवा के लेने से वह खुद को एनर्जेटिक महसूस कर रहे थे। जल्द ही एबेनेजर को इस दवाई की लत लग गई और वह जरूरत से ज्यादा इसका सेवन करने लगे।

ताकत के लिए ये दवाई पीता था एथलीट, गलकर गिर गया जबड़ा, हुआ ये दिल दहला देने वाला हाल

कई बार तो खेल के दौरान खिलाड़ी चोटिल हो जाता है लेकिन कुछ मामलों में खुद खिलाड़ी ही खुद को ऐसा नुकसान पहुंचा बैठते हैं जिसकी भरपाई नामुमकिन होती है। इस दवाई के अधिक सेवन के कारण एबेनेजर का जबड़ा गलकर नीचे गिर गया। एबेनेजर का जबड़ा गिरने के बाद उन्हें बिल्कुल भी दर्द महसूस नहीं हुआ, क्योंकि रैडिटौर पीने की वजह से उनकी नसें सुन्न हो चुकी थी।

ताकत के लिए ये दवाई पीता था एथलीट, गलकर गिर गया जबड़ा, हुआ ये दिल दहला देने वाला हाल

उस समय इस घटना से पूरी दुनिया में हलचल मच गयी थी। डॉक्टर्स भी बहुत कोशिश के बाद उनके जबड़े को नहीं जोड़ पाए। 1932 में 51 साल की उम्र में एबेनेजर की मौत हो गई। मौत होने के बाद उनकी बॉडी का टेस्ट किया गया, जिसमें काफी रेडियोएक्टिव कण पाए गए। दुर्भाग्य की बात ये रही कि जिस डॉक्टर ने एबेनेजर को रैडिटौर पीना प्रिस्क्राइब किया था, वो असल में डॉक्टर ही नहीं था।

ताकत के लिए ये दवाई पीता था एथलीट, गलकर गिर गया जबड़ा, हुआ ये दिल दहला देने वाला हाल

अगर सही डॉक्टर के पास वह गए होते तो उनका करियर और ज़िंदगी दोनों लंबे हो सकते थे। फर्जी डिग्री की मदद से वह डॉक्टर बनकर उन्हें बेवकूफ बनाता रहा। इस फर्जी डॉक्टर की वजह से कई लोगों को जान का जोखिम भी उठाना पड़ा।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...