HomeUncategorizedहरियाणा और पंजाब में धान की खरीद में हुई देरी से किसानों...

हरियाणा और पंजाब में धान की खरीद में हुई देरी से किसानों का कैसे हुआ नुकसान?

Published on

भारतीय खाद्य निगम ने हरियाणा और पंजाब में 10 अक्टूबर तक धान की खरीद को स्थगित कर दिया था। केंद्र सरकार का कहना है कि भारी बारिश के कारण इन दोनों राज्यों में धान पकने में देरी हुई है और नए आवकों में नमी की मात्रा भी तय सीमा से अधिक है।

इस फैसले के बाद दोनों राज्यों के किसानों ने आंदोलन की घोषणा की। जिसके बाद शनिवार को पूरे हरियाणा में लोगों ने जमकर बवाल मचाया।

हरियाणा और पंजाब में धान की खरीद में हुई देरी से किसानों का कैसे हुआ नुकसान?

केंद्र को मनाने में सफल हुई प्रदेश सरकार

इस दौरान सीएम मनोहर लाल खट्टर, कृषि मंत्री जेपी दलाल समेत कई मंत्रियों और विधायकों के घरों का घेराव किया।

हरियाणा और पंजाब में धान की खरीद में हुई देरी से किसानों का कैसे हुआ नुकसान?

वहीं, हरियाणा सरकार पहले से ही धान की खरीद के लिए केंद्र सरकार को मानने में जुटी हुई थी और शाम होते होते सरकार को सफलता भी मिल गई। रविवार 3 अक्टूबर से धान की खरीद शुरू हो गई है।

31 लाख हेक्टेयर में हुई थी बुवाई

हरियाणा और पंजाब में धान की खरीद में हुई देरी से किसानों का कैसे हुआ नुकसान?

पंजाब में धान की बुवाई की आधिकारिक तारीख 10 जून ओर हरियाणा में 15 जून थी। इस वर्ष धान की बुवाई दोनो राज्यों में लगभग 31 लाख हेक्टेयर में हुई थी। जिसमें 25–26 लाख हेक्टेयर पंजाब में और बाकी हरियाणा में हुई। वहीं बासमती चावल की बुवाई करीब 11–12 लाख हेक्टेयर में हुई है, जिसमें से 4.61 लाख हेक्टेयर पंजाब में शामिल है।

MSP पर केवल धान की खरीद करती है सरकार

हरियाणा और पंजाब में धान की खरीद में हुई देरी से किसानों का कैसे हुआ नुकसान?

सरकार द्वारा केवल धान की फसल ही न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी जाती है। वहीं दोनों राज्यों में निजी कंपनियों या बासमती निर्यातकों द्वारा ही बासमती की खरीद की जाती है।

जल्दी परिपक्व होने वाली किस्में हैं पसंद

आज किसान बेहतर उपज के लिए कई छोटी अवधि की किस्मों में से किसी एक को चुनते हैं। पंजाब में किसान मुख्य रूप से 93 से 110 दिनों में परिपक्व होने वाली किस्मों को पसंद करते हैं।

हरियाणा और पंजाब में धान की खरीद में हुई देरी से किसानों का कैसे हुआ नुकसान?

इसमें 20-25 दिनों की नर्सरी अवधि शामिल नहीं होती है। जब बिचड़ा उगाया जाता है और फिर तय तिथि (10 जून और 15 जून) के अनुसार ही खेतों में रोपा जाता है। छोटी किस्में सितंबर के अंत तक परिपक्व होने लगेंगी।

Latest articles

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

More like this

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...