Homeइंदिरा गांधी ने अपने छोटे बेटे संजय गांधी की लाश को पहली...

इंदिरा गांधी ने अपने छोटे बेटे संजय गांधी की लाश को पहली बार देखा तो यह था उनका रिएक्शन

Array

Published on

गाँधी परिवार के बारे में भारत का बच्चा-बच्चा जानता है। हर कोई गाँधी परिवार के सदस्यों को जानता है। गांधी परिवार के बेटे और कांग्रेस नेता संजय गांधी का जन्म 14 दिसंबर 1946 को हुआ था। संजय गांधी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के छोटे बेटे थे, लेकिन राजनीति का ज्ञान अपनी मां से भी ज्यादा रखते थे। संजय गांधी का नाम सबसे ज्यादा इमरजेंसी के लिए याद किया जाता है।

जब संजय गाँधी की मृत्यु हुई तो वो काफी मार्मिक दृश्य था। एक पेड़ की शाखाओं में एक हैलीकाॅप्टर फंसा हुआ है। जब उस हैलीकाॅप्टर को नीचे उतारा गया तो उसमें से दो लाशें निकलीं। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने जब 25 जून 1975 की आधी रात को आपातकाल की घोषणी की तो पूरे देश में हड़कंप मच गया था।

इंदिरा गांधी ने अपने छोटे बेटे संजय गांधी की लाश को पहली बार देखा तो यह था उनका रिएक्शन

इमर्जेन्सी को आज भी देश याद करता है तो रूह काँप जाती है। इस दिन को देश के इतिहास का सबसे काला दिन माना गया जो करीब दो साल तक रहा। कहा जाता है कि अगर उस दौरान सत्ता संजय गांधी के हाथों होती तो वो 35 सालों तक इमरजेंसी लगे रहने देते। हालांकि इमरजेंसी के दौरान जितने फैसले लिए गए उन पर संजय गांधी का ही प्रभाव था।

इंदिरा गांधी ने अपने छोटे बेटे संजय गांधी की लाश को पहली बार देखा तो यह था उनका रिएक्शन

कहा जाता है जब संजय गाँधी की मृत्यु हुई तो प्रधानमंत्री ने जब अपने बेटे को देखा तो वो फफक कर रो पड़ीं। संजय गांधी राजनीति में माहिर थे उन्हें हवा में चार्टर प्लेन से कलाबाजियां करना भी बेहद पसंद था। इंदिरा गांधी के योग गुरु धीरेंद्र ब्रह्मचारी उस वक्त इंदिरा के यहां रहते थे। संजय गांधी रोज की तरह चार्टर प्लेन की तरफ जा रहे थे तभी उनको धीरेंद्र ब्रह्मचारी मिले। उनसे साथ चलने को कहा तो उन्होंने बोला- मैंने तुम्हारी रफ्तार के किस्से सुने है मुझे छोड़ दो। कुछ ही दिन पहले एक नया चार्टर प्लेन आया था पिट्स-एस- 2ए जो आसमान में गुलाटियां खा सकता था।

इंदिरा गांधी ने अपने छोटे बेटे संजय गांधी की लाश को पहली बार देखा तो यह था उनका रिएक्शन

23 जून 1980 को संजय गांधी सुबह सुबह प्रधानमंत्री आवास 1, सफदरजंग से हरे रंग की गाड़ी से निकले। संजय गांधी वहां से सफदरजंग एयरपोर्ट पहुंचे जहां पहले से फ्लाइंग ट्रेनर सुभाष सक्सेना उनका इंतजार कर रहे थे। कुछ समय बाद संजय का चार्टर प्लेन से नियंत्रण छूट गया। थोड़ी देर बाद प्लेन आवाज करते हुए नीचे गिरा। संजय गांधी का प्लेन क्रैश हो गया और एक पेड़ के बीच फंस गया।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...