HomePoliticsजिला प्रशासन ने बनाये कटेंनमेंट होम जानिए क्या होता है कटेंनमेंट होम

जिला प्रशासन ने बनाये कटेंनमेंट होम जानिए क्या होता है कटेंनमेंट होम

Published on

देश में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ते हुए चार लाख की ओर पहुंच गए हैं। पिछले 24 घंटे में 14,516 नए मामले सामने आए हैं, जबकि इतने ही वक्त में 375 लोगों की मौत हुई है। यह एक दिन में आए अब तक के सबसे अधिक कोरोना वायरस के मामले हैं।

अब बात करते है NCR की ,,,एक तरफ जहां गुरुग्राम में कोरोना मरीजों की संख्या सर्वाधिक है, वहीं एनसीआर के अन्य जिलों में कटेंटमेंट जोन की संख्या दौगुनी की जा रही है। आपको बताते चले कि फरीदाबाद में शुक्रवार को 91 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई जिसके बाद यह आंकड़ा 2 हजार पार कर गया है। अभी तक फरीदाबाद में मरीजों की संख्या 2003 तक जा पहुंची है। यही कारण है कि फरीदाबाद में मरीजों के बढ़ने के साथ साथ कंटेनमेंट जोन की संख्या भी बढ़ाई जा रही है।

वहीं फरीदाबाद के बाद गुरुग्राम में 146 मामले शुक्रवार की शाम तक दर्ज किए गए इसके बाद यह आंकड़ा 4 हजार पार कर 4136 तक पहुंच गया। वहीं अभी गुरुग्राम में केवल 98 क्षेत्रों पर नियंत्रण आया गया है। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि दिल्ली के साथ लगती सीमाओं के साथ सख्त रुख अपनाया हुए हैं। गुड़गांव में एक क्षेत्र को एक नियंत्रण क्षेत्र के रूप में घोषित किया जाता है जहां अगर एक किमी के दायरे में कम से कम पांच या उसे अधिक कोविद -19 मामले उभर कर आए हो।

फरीदाबाद के एसडीएम पंकज सेठिया ने कहा कि जहां हमारे फरीदाबाद में कोरोना वायरस के मामले पाए जाते हैं तो उस पूरी गली या क्षेत्र को सील करने की बजाय केवल उस घर को सील करने का निर्णय लिया गया है,,,, जिसको हम कंटेटमेंट होम के तौर पर देखा जा सकता हैं जिसमे एक घर पर ही अंकुश लगाया जा रहा हैं

उन्होंने कहा कि यही कारण है कि हमारे पास गुड़गांव की तुलना में अधिक संख्या में सम्‍मिलित क्षेत्र हैं। आगे उन्होंने कहा फरीदाबाद में सम्‍मिलत क्षेत्र की संख्‍या गुड़गांव में सम्‍मिलन क्षेत्र से दोगुनी हैं। उन्होंने बताया कि हम सीलिंग के लिए एक किमी क्षेत्र नहीं ले रहे हैं,बल्कि एक मामले के सामने आने ओर 200 या 300 मीटर क्षेत्र को सील किया का रहा हैं।

उदाहरण के लिए, यदि एक घर से कोई मामला आता है, तो हम उस गली को सील कर देते हैं जहां घर स्थित है। इसका कारण यह है कि हम एक पूरे सेक्टर या कॉलोनी को सील नहीं कर सकते क्योंकि इसका मतलब होगा कि बहुत सारी मैनपावर को वहां तैनात करना होगा।

जब हम छोटे क्षेत्रों को सील करते हैं, तो उन्हें प्रबंधित करना आसान होता है और हम कोविद -19 के प्रसार को प्रभावी रूप से शामिल कर सकते है। सेठिया ने आगे बताया कि गुरुवार को फरीदाबाद में नियंत्रण क्षेत्रों 44 नए क्षेत्रों को शामिल किया गया जिसके बाद यह संख्या बढ़कर 51 हो गई है

स्वास्थ्य विभाग ने अब तक परीक्षण के लिए 19,378 नमूने भेजे हैं। इनमें से 16,955 नमूनों का परीक्षण नकारात्मक हुआ है जबकि 420 की रिपोर्ट का इंतजार है।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...