HomeFaridabadनौकरी नहीं मिली तो इंजीनियर ने लगाया सब्जी का ठेला, अब ठेले...

नौकरी नहीं मिली तो इंजीनियर ने लगाया सब्जी का ठेला, अब ठेले को बना डाला करोड़ों रुपए की कंपनी

Published on

आज के समय में ऐसे बहुत लोग हैं जो पढ़ाई कर चुके हैं लेकिन उन्हें रोजगार का आज भी इंतज़ार है। कही न कही आज भी कई युवा नौकरी की तलाश में इधर उधर भटक रहे हैं। वही लेकिन ऐसे भी कई युवा है,और साथ ही जिन्हें नौकरी नहीं मिली तो उन्होंने खुद का कारोबार शुरू कर दिया। जिन्हें नौकरी नहीं मिली तो खुद का सब्जी का ठेला ही शुरू कर दिया।

आपको बता दे की , इस शख्स का नाम उमेश देवकर है। वही उमेश ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। लेकिन जब नौकरी नहीं मिली तो उन्होंने सब्जी का ठेला शुरू किया जो आज कंपनी का रूप ले चुका है।

नौकरी नहीं मिली तो इंजीनियर ने लगाया सब्जी का ठेला, अब ठेले को बना डाला करोड़ों रुपए की कंपनी

साथ ही आपको बता दे की , महाराष्ट्र के पुणे के रहने वाले उमेश देवकर के बारे में बताने जा रहे हैं। उसके बाद उमेश ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की हुई है। लेकिन उसने पढ़ाई करने एक बाद उमेश को नौकरी नहीं मिली। आपको बता दे की ,ये समय उमेश के लिए काफी मुश्किल था लेकिन उसके बाद भी उमेश ने हार नहीं मानी और खुद का सब्जी का ठेला लगाना शुरू कर दिया।

धीरे धीरे उमेश ने अपने इस ठेले को कंपनी का रूप दे दिया और होम डिलीवरी कंपनी को शुरू किया। साथ ही आपको बता दे की , उमेश के स्टार्टअप का नाम फार्म टू होम है। इस काम में उमेश अपने फल और सब्जियों को सीधा ग्राहकों तक पहुंचाते हैं।

नौकरी नहीं मिली तो इंजीनियर ने लगाया सब्जी का ठेला, अब ठेले को बना डाला करोड़ों रुपए की कंपनी

बता दें कि उमेश की इस कंपनी का सालाना टर्नओवर करीब 2.5 करोड़ रूपये है। एक किसान परिवार के लड़के के लिए यहना तक पहुंचाना आसान नहीं था। ठेला शुरू करने के बाद उमेश ने खेती बाड़ी में ही आगे बढ़ने का फैसला किया। आज अपने इस काम से उमेश कई लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं। साथ ही आपको बता दे की आज तक भी उमेश के इस काम में तकरीबन 30 लोग उनकी मदद करते हैं।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...