Home31 साल की उम्र में बेटे को जन्म देकर स्मिता पाटिल ने...

31 साल की उम्र में बेटे को जन्म देकर स्मिता पाटिल ने छोड़ दी थी दुनिया, बेटे ने लिखा इमोशनल पत्र

Published on

बेहतरीन अदाकारा और लोगों के दिलों में जगह बनाने वाली स्मिता पाटिल एक बड़े घराने से ताल्लुक रखती थी। आज भी उनके कई फैंस हैं। वर्ष 1955 को पुणे में जन्मी स्मिता 13 दिसंबर 1986 को महज 31 साल की उम्र में चाइल्डबर्थ कॉम्प्लिकेशंस के चलते दुनिया छोड़ गई थीं। उनका निधन मुंबई में हुआ था। लेकिन स्मिता की मौत से कुछ घंटों पहले की कहानी पर नजर डालें तो महसूस होता कि पहले ही उन्हें अहसास हो गया था कि उनके साथ कुछ न कुछ होने वाला है।

स्मिता पाटिल ने फिल्म चरणदास चोर से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। बेटे को जन्म देने के कुछ दिन बाद ही स्मिता पाटिल का निधन हो गया था। 12 दिसंबर 1986 का वो दिन, बाकी दिनों की तरह ही था। सुबह 6 बजे जैसे ही बेटे के रोने की आवाज आई तो स्मिता बेड से उठीं और बड़े आराम से बेटे को चुप कराने की कोशिश करने लगीं। वे नहीं चाहती थीं कि बेटे के रोने की आवाज से हसबैंड राज बब्बर की नींद खुल जाए, जो देर रात तक काम करने के बाद घर लौटे थे।

31 साल की उम्र में बेटे को जन्म देकर स्मिता पाटिल ने छोड़ दी थी दुनिया, बेटे ने लिखा इमोशनल पत्र

अपनी शानदार एक्टिंग के चलते उन्होंने हिंदी फिल्मो के साथ साथ अन्य भाषाओ की फिल्मो में भी अभिनय किया है। स्मिता के पिता महाराष्ट्र के मंत्री थे। स्मिता को ब्रेन इंफेक्शन हुआ था जिस वजह से उनके शरीर के अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। प्रतीक अपना सिर मां की बॉडी से दूर कर रहे थे। तब स्मिता को महसूस हुआ कि उनकी बॉडी का तापमान बेटे को परेशान कर रहा है। बीमार होने के कारण दो दिन से स्मिता ने बेटे को छुआ तक नहीं था।

31 साल की उम्र में बेटे को जन्म देकर स्मिता पाटिल ने छोड़ दी थी दुनिया, बेटे ने लिखा इमोशनल पत्र

उनके बेटे प्रतीक बब्बर ने बेहद ही इमोशनल पोस्ट लिखा है। ऐसा कहा जाता है कि उस रोज वे बेटे को प्यार किए बगैर नहीं रह सकीं। बता दें कि स्मिता की मौत से 15 दिन पहले ही यानी 28 नवंबर 1986 को प्रतीक बब्बर का जन्म हुआ था। बड़े घर में पैदा होने के बावजूद स्मिता एक साधारण लड़की की तरह रहती थी। मां की मौत के बाद से प्रतीक बब्बर की परवरिश उनकी नानी ने की थी।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...