HomeUncategorizedप्रेमी और पैसों के लिए छोटी बहन से कराई अपने पति की...

प्रेमी और पैसों के लिए छोटी बहन से कराई अपने पति की शादी, फिर बदला मन, तो खुद का फैसला पड़ गया भारी

Published on

कुछ सच्ची घटनाएं ऐसी होती है जो लगती तो फिल्मी है मगर होती सच्ची है, आज हम भी आपको ऐसी कहानी बताने वाले है वो आपको लगेगी तो फिल्मी मगर सच है। आपने देखा होगा कि किसी पत्नी ने अपने पति को पैसों के लिए छोड़ दिया, या फिर ब्वॉयफ्रेंड के लिए छोड़ दिया। मगर आज एक ऐसा मामला आया है जिसमे सच में एक पत्नी ने ऐसा किया है।

एक पत्नी ने पैसे और ब्वायफ्रेंड के लिए पति को छोटी बहन को सौंप दिया। कोर्ट में शादी भी करा दी और फिर वह अपने ब्वायफ्रेंड के पास चली गई। कुछ दिनों तक सब कुछ ठीक रहा, लेकिन बाद में ब्वायफ्रेंड ने साथ छोड़ दिया। पैसे तो थे, लेकिन उसे पुराने दिन याद आने लगे।

प्रेमी और पैसों के लिए छोटी बहन से कराई अपने पति की शादी, फिर बदला मन, तो खुद का फैसला पड़ गया भारी

उसके बाद वह खुद को अकेला महसूस करने लगी। वापस लौट कर छोटी बहन से मिली। पति के साथ वापस पहले की तरह रहने की बात कही, लेकिन अब छोटी बहन जिसे पति मान चुकी है, उसके बारे में कुछ सुनना तक पसंद नहीं कर रही।
क्योंकि एक पत्नी अपने पति के बारे में कुछ नहीं सुन सकती।

प्रेमी और पैसों के लिए छोटी बहन से कराई अपने पति की शादी, फिर बदला मन, तो खुद का फैसला पड़ गया भारी

छोटी बहन ने बड़ी बहन के प्रस्ताव को ठुकरा दिया। बड़ी बहन ने बहुत समझने की कोशिश की। प्यार से, गुस्से से, सभी तरह से समझने की कोशिश की लेकिन वह नहीं समझी। बात-विवाद इतना बढ़ गया कि मामला महिला थाने तक पहुंच गया। महिला थानाध्यक्ष उस वक्त थाने में नहीं थी। दोनों बहनों और उनके पति को शनिवार को थाने पर बुलाया गया है।

प्रेमी और पैसों के लिए छोटी बहन से कराई अपने पति की शादी, फिर बदला मन, तो खुद का फैसला पड़ गया भारी

बड़ी बहन ने पहले इसके बारे में नहीं सोचा मगर बाद में उसे पछताना पड़ रहा था।
तो इससे हमें समझ जाना चाहिए कि रिश्ते सबसे ज्यादा अहम होते हैं ना कि पैसा दौलत और कुछ भी अगर हमारे पास कोई इंसान नहीं है तो पैसे का हम कुछ भी नहीं कर सकते।

प्रेमी और पैसों के लिए छोटी बहन से कराई अपने पति की शादी, फिर बदला मन, तो खुद का फैसला पड़ गया भारी

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...